नृत्यः ओडिसी की परंपरा की झलक

आंतरिक खुशी का प्राकट्य नृत्य में होता है। नृत्य के नव रस के जरिए कलाकार जीवन के अलग-अलग भावों को उकेरते हैं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *