When Guru Dutt had caught the father’s hand for the mother – जवान बेटे गुरु दत्त के इस तरह हाथ पकड़ने से सकपका गए थे पिता, गलती का हुआ अहसास

सिनेमा के इतिहास पर गुरु दत्त के जिक्र बगैर बात नहीं हो सकती। काम ही कुछ उन्होंने इतने बड़े और कमाल के किए थे। डायरेक्शन से लेकर एक्टिंग तक अपनी बैचेनी उड़ेल दी थी। यही कारण है कि वह तो हमें छोड़ कर चले गए लेकिन उनकी फिल्में आज भी अमर हैं। गुरु दत्त के फिल्मी सफर की तो बहुत बातें होती हैं चलिए आज हम आपको उनकी पर्सनल लाइफ से जुड़ा एक रोचक किस्सा बताते हैं। जब गुरु दत्त ने मां पर गुस्सा हुए पिता को शांत कराने के लिए उनका हाथ पकड़ लिया था।

गुरु दत्त का जन्म 9 जुलाई 1925 को बंगलौर में पिता शिवशंकर राव पादुकोणे और मां वसंती पादुकोणे के घर हुआ था। उनके माता पिता कोंकण के चित्रपुर सारस्वत ब्राह्मण थे। उनके पिता शुरुआत के दिनों एक स्कूल के हेडमास्टर थे लेकिन बाद में एक बैंक के में काम करने लगे थे। गुरु दत्त की मां एक साधारण गृहिणीं थीं जो बाद में एक स्कूल में टीचर बन गयी थीं। गुरु दत्त जब पैदा हुए तब उनकी मां की उम्र 16 वर्ष थी। गुरु दत्त की माता जी घर पर प्राइवेट ट्यूशन के अलावा लघुकथाएँ लिखतीं थीं और बंगाली उपन्यासों का कन्नड़ भाषा में अनुवाद भी करती थीं। वह अपने समाज में उन चंद महिलाओं में से थीं जिन्होंने मैट्रिक पास किया था।

बड़ी खबरें

एक दिन गुरुदत्त की मां को उनके स्कूल ने सम्मानित करने के लिए बुलाया था लेकिन इस बात से गुस्सेल मिजाज के पिता नाराज हो गए। उनका मानना था कि उस समाहरोह का न्योता उन्हें क्यों नहीं भेजा। गुरु दत्त के पिता को यह उनका अपमान लगा इसलिए वह पत्नी के सम्मान समारोह में नहीं गए। वसंती अपने बेटे गुरु दत्त को लेकर स्कूल चली गईं। वहां मैट्रिक पास करने के लिए उन्हें सम्मानित किया गया और तोहफे में एक पार्कर का पैन दिया गया।

जब गुरु दत्त और मां दोनों घर लौटे तो पिता काफी गुस्सा थे। यहां तक कि उन्होंने पत्नी को सम्मान में मिला पैन उनके हाथ से लिया और बाहर फेकने लगे। यह देख चुपचाप खड़े गुरु दत्त ने अचानक पिता का हाथ पकड़ लिया। जवान बेटे के इस तरह अचानक हाथ पकड़ने से पिता सकपका गए। उन्हें उस समय लगा कि शायद उनसे बहुत बड़ी गलती हो गई है और गुस्सा शांत होने के कुछ देर बात वहां से अंदर चले गए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *