केंद्र को झटका, ‘एस दुर्गा’ की स्क्रीनिंग पर रोक लगाने से केरल हाई कोर्ट का इनकार – A Bench of Kerala High Court Refuses to Ban on Screening of Sexy Durga

केंद्र को शुक्रवार को उस वक्त एक बड़ा झटका लगा जब केरल उच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने इस हफ्ते की शुरुआत में उच्च न्यायालय की एकल पीठ द्वारा सुनाए गए फैसले को बरकरार रखा। उच्च न्यायालय की एकल पीठ ने 48वें इफ्फी में मलयालम फिल्म ‘एस दुर्गा’ की स्क्रीनिंग का आदेश दिया था। फिल्म के कलाकारों ने जूरी से विनती की थी कि वह जल्द से जल्द सारी औपचारिकताओं को पूरा करें। केंद्र ने गुरुवार को एकल पीठ के फैसले के खिलाफ खंडपीठ के समक्ष अपील दायर की थी, जिसने गोवा में चल रहे इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया (इफ्फी) में फिल्म की स्क्रीनिंग के आदेश दिए थे।

एकल पीठ के आदेश का विरोध करते हुए केंद्र के वकील ने कहा कि इस फिल्म की स्क्रीनिंग कराने से महोत्सव की समय-सारणी के लिए समस्या पैदा होगी लेकिन खंडपीठ ने एकलपीठ के निर्णय को बरकरार रखा और याचिका को केस फाइल के रूप में स्वीकार कर लिया। जूरी की मंजूरी के बावजूद सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने सनल कुमार शशिधरन की मलयालम फिल्म ‘एस दुर्गा’ और रवि जाधव की मराठी फिल्म ‘न्यूड’ की स्क्रीनिंग को इफ्फी के पैनोरमा सेक्शन से हटा दिया था।

संबंधित खबरें

केरल उच्च न्यायालय के फिल्म ‘एस दुर्गा’ पर सुनाए गए फैसले के बाद फिल्म के अभिनेता कन्नन नायर ने गोवा में कहा, “हमने जूरी के सभी सदस्यों से अनुरोध किया कि वह कल फिल्म को दोबारा देखने के लिए आएं। आपको यह फिल्म पसंद आएगी। आप लोग हैं जिन्होंने हमारी फिल्म को सर्वसम्मति से चुना है।” नायर ने आईएएनएस से कहा, “मेरे पास सेंसर हुआ डीसीपी (डिजिटल सिनेमा पैकेज) है। मेरे पास ब्लू रे डिस्क है और अगर इफ्फी कहे तो मैं इसे उनके पास जमा कर सकता हूं। लेकिन वह अभी भी जवाब नहीं दे रहे हैं, यहां तक कि वह मेरे साथ बात भी नहीं कर रहे हैं।” नायर ने कहा, “न्याय में देरी निश्चित रूप से अदालत की अवमानना है लेकिन अदालत ने जूरी को फिल्म को फिर से देखने का आदेश दिया है तो हम उसी का इंतजार कर रहे हैं। अगर वह फिर देरी करते हैं तो यह निश्चित रूप से अदालत की अवमानना है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *