गुजरात: साबरमती नदी में मिली जसप्रीत बुमराह के दादा की लाश, पोते से मिलने गए थे – Indian cricketer Jasprit Bumrah grandfather Santok Singh Bumrah dead body found in Sabarmati River in gujarat

टीम इंडिया के क्रिकेटर जसप्रीत बुमराह के दादा संतोष सिंह बुमराह की लाश गुजरात के साबरमती नदी में मिली है। 84 साल के संतोष सिंह बुमराह उत्तराखंड से अहमदाबाद अपने पोते से मिलने के लिए पहुंचे थे। हालांकि जसप्रीत बुमराह से उनकी मुलाकात नहीं हो पाई थी।काफी वक्त गुजर जाने के बाद भी वह वापस घर नहीं पहुंचे थे। इसके बाद पुलिस में उनके गुमशुदा होने की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक अहमदाबाद फायर एंड इमरजेंसी सर्विस के कर्मचारियों ने साबरमती नदी में गांधी ब्रिज और दधीचि ब्रिज के बीच से संतोष सिंह का शव निकाला। दरअसल जसप्रीत बुमराह का परिवार अपने दादा से अलग रहता है। रिपोर्ट्स के मुताबिक जब संतोष सिंह जसप्रीत बुमराह से मिलने अहमदाबाद पहुंचे तो वहां पर ना तो किसी ने उनसे बात की और ना ही मुलाकात की। संतोष सिंह बुमराह की बेटी राजिंदर कौर बुमराह ने बताया कि उनके पिता बीते शुक्रवार से लापता हैं। वह अभी तक घर नहीं पहुंचे हैं। इसके बाद अहमदाबाद के वस्त्रपुर पुलिस स्टेशन में उनके गायब होने की रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू ही की थी कि साबरमती नदी में एक लाश होने की खबर मिली। पुलिस ने इस पूरे मामले की विस्तार से जांच शुरू कर दी है।

अहमदाबाद में रहने वाली राजिन्दर कौन ने बताया कि जब वह अपने पिता के साथ जसप्रीत की मां दलजीत कौर से मिलने शहर के एक सिटी स्कूल में पहुंची तो वहां दलजीत कौर ने इनसे बात करने से मना कर दिया, यही नहीं उन्होंने जसप्रीत का फोन नंबर देने से भी मना कर दिया। राजिन्दर के मुताबिक उनके पिता इस घटना के बाद काफी उदास थे। वे शुक्रवार को दोपहर बाद घर से निकले और फिर वापस नहीं लौटे।बता दें कि जसप्रीत के दादा उत्तराखंड के उधमसिंहनगर में बेहद खराब हालत में अपनी जिंदगी गुजर बसर कर रहे हैं। यहां पर वह एक किराये के मकान में रहते थे और रोजी-रोटी के लिए ऑटो चलाते थे।

7 साल में अपने पिता को खोने वाले जसप्रीत बुमराह ने अपनी जिंदगी में काफी उतार चढ़ाव देखे हैं। उनकी जिंदगी के बारे में दिलचस्प जानकारियां जानने के लिए तस्वीर पर क्लिक करें।

बता दें कि कभी संतोष सिंह काफी अमीर आदमी थे और अहमदाबाद में इनकी तीन फैक्ट्रियां थी। लेकिन 2001 में जसप्रीत बुमराह के पिता जसवीर बुमराह की मौत हो गई। इसके बाद इस परिवार पर एक के बाद एक कई मुसीबतें आनी शुरू हो गईं।आर्थिक तंगी की वजह से उन्हें अपनी फैक्ट्रियां बेचनी पड़ी। हालात बिगड़ता देख संतोष बुमराह को अपना सारा कारोबार बेचकर उत्तराखंड आना पड़ा।  इसके बाद कुछ पारिवारिक वजहों से जसप्रीत बुमराह की मां और जसप्रीत अपने दादा से अलग रहने लगे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *