ट्रेन में चोरी हुआ दो महिला सांसदों का सामान, संसद में उठाया मामला तो रेल मंत्री बोले- सुरक्षा राज्‍य का विषय – Two Women MPs Raised Issue of Increasing Theft Incidents in Trains In Rajya Sabha

राज्यसभा में शुक्रवार को दो महिला सांसदों ने रेल गाड़ियों में चोरी की घटनाओं में हो रहे इजाफे का जिक्र करते हुए खुद उनका सामान भी चोरी होने का मामला उठाया। सांसदों का कहना था कि जब चोरों की नजर से सांसदों का सामान नहीं बच रहा है तो आम रेल यात्री के साथ क्या होता होगा, इसकी सहज कल्पना की जा सकती है। प्रश्नकाल के दौरान माकपा की झरना दास ने रेल मंत्री पीयूष गोयल से पूरक प्रश्न पूछते हुए कहा कि वह राजधानी ट्रेन के प्रथम श्रेणी कोच में दिल्ली से कोलकाता जा रही थीं। रास्ते में उनका सामान चोरी कर लिया गया। उन्होंने कोलकाता जाकर इसकी रिपोर्ट लिखवाई। इसके बाद ही वह त्रिपुरा गईं। उन्होंने कहा कि रिपोर्ट दर्ज कराने के बावजूद अब तक सामान का कोई सुराग नहीं लगा।

उन्होंने कहा कि ट्रेनों में सुरक्षा के नाम पर मात्र दो सिपाही होते हैं। स्टेशनों पर भी रेलवे पुलिस के थानों में महज दो तीन सिपाही मिलते हैं। उन्होंने दावा किया कि रेलवे पुलिस थानों में पुलिस से ज्यादा चूहे और काक्रोच दिखाई देते हैं। इस पर रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि सुरक्षा राज्य का विषय है। रेलवे पुलिस की जिम्मेदारी केवल रेलवे संपत्ति और यात्रियों की सुरक्षा करना है। चोरी आदि के मामलों में रेलवे पुलिस राज्य पुलिस की मदद करती है। राज्य पुलिस ही चोरी आदि के मामलों में प्रकरण दर्ज कर आगे की कार्रवाई करती है।

संबंधित खबरें

पीयूष गोयल ने कहा कि चोरी जिस राज्य में हुई, उससे पता चलता है कि वहां कानून व्यवस्था की क्या स्थिति है। उन्होंने कहा कि रेलवे सारी ट्रेनों और प्लेटफार्मों पर सीसीटीवी लगाने की योजना बना रही है। इससे यात्रियों एवं रेलवे की बेहतर सुरक्षा में मदद मिलेगी। इसके बाद बीजद की सरोजिनी हेम्ब्रम ने भी पूरक सवाल पूछते हुए कहा कि उनका भी ट्रेन यात्रा के दौरान प्रथम श्रेणी की बोगी से सामान चोरी हो गया। उन्होंने कहा कि जब सांसदों का सामान ही ट्रेन में सुरक्षित न हो तो आम रेल यात्रियों की क्या स्थिति होगी इसकी कल्पना की जा सकती है। उन्होंने सरकार से जानना चाहा कि ट्रेनों में यात्रियों और उनके सामान की सुरक्षा के लिए क्या प्रबंध किए जा रहे हैं।

सपा के रामगोपाल यादव ने कहा कि ऐसा देखने में आ रहा है कि दिल्ली एवं कानपुर के बीच जहरखुरानों के कुछ संगठित गिरोह चलते हैं जो लोगों को खाने के सामान में विषाक्त पदार्थ मिलाकर लूट लेते हैं। उन्होंने कहा कि सरकार को ट्रेनों में चलने वाले गैर कानूनी सामान विक्रेताओं पर भी पाबंदी लगानी चाहिए। इसके जवाब में गोयल ने कहा कि रेलवे सुरक्षा बल और राजकीय रेल सुरक्षा बल आपस में सामंजस्य कायम कर रेलगाड़ियों में अपराधों को रोकने के हरसंभव प्रयास कर रहे हैं।

उन्होंने स्वीकार किया कि रेलगाड़ियों में अपराधों को अंजाम देने वाले अराजक तत्व यात्रा का वैध टिकट लेकर सवार होते हैं। ऐसे में सुरक्षा कर्मियों के लिए इन्हें सामान्य अपराधियों से अलग कर इनकी पहचान कर पाना मुमकिन नहीं होता है। गोयल ने इस पर प्रभावी नियंत्रण के लिए सभी सदस्यों से रेल यात्रा के दौरान किसी भी तरह की वारदात या साफ सफाई सहित अन्य असुविधाओं की शिकायतें विभिन्न माध्यमों से करने की अपील की जिससे इन पर प्रभावी कार्रवाई की जा सके। गोयल ने कहा कि इसके लिए सोशल मीडिया, मोबाइल ऐप और पत्राचार को माध्यम बनाया जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *