ढेर हुआ तीन फिट का बड़ा आतंकी, नेताओं को मारने के लिए बनाया था बीजेपी में शामिल होने का प्‍लान – terrorist Noor mohammad Tantray killed in Pulwama wanted to join BJP in 2003 to kill bjp top leader

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षाबलों ने मंगलवार (26, दिसंबर) को जैश-ए-मोहम्मद के डीविजनल कमांडर नूर मोहम्मद तंत्री को ढेर कर दिया। नूर तंत्री वहीं आतंकी है जो साल 2003 में भाजपा में शामिल होकर पार्टी के टॉप लीडरों को मारना चाहता था। रिपोर्ट के अनुसार पीर बाबा के नाम से मशूहर करीब तीन फीट लंबा नूर तंत्री राजधानी दिल्ली के 11 अशोका रोड स्थित भाजपा मुख्यालय भी जा चुका है। इस दौरान वह एक सक्रिय कार्यकर्ता के रूप में पार्टी सदस्यता का फॉर्म लेने में कामयाब भी हो गया था।

डीएनए की रिपोर्ट के अनुसार तब उसका प्लान पार्टी नेताओं की जासूसी करना और उनपर हमला करना। इससे पहले की वह अपनी साजिश में कामयाब हो पाता उसे और उसके साथी को दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल की एंटी टेरर यूनिट ने गिरफ्तार कर लिया। तब दोनों के पास से भारी मात्रा में हथियार भी बरामद किए गए। रिपोर्ट के अनुसार पुलवामा निवासी नूर तंत्री उर्फ गुलजार अहमद भट्ट को अगस्त, 2003 में गिरफ्तार किया गया था।

बड़ी खबरें

बता दें कि तंत्री पोटा एक्ट (2002) के तहत प्रतिबंधित जैश का कमांडर था। उसे पहले भी आपराधिक साजिश के तहत गिरफ्तार किया जा चुका है। तंत्री को साल 2011 में उम्र कैद की सजा दी गई। हालांकि साल 2015 में वह जमानत पर बाहर आ गया। इसके बाद एक बार फिर साउथ और सेंट्रल कश्मीर में जैश में जान फूंकने का काम करने लगा।

गौरतलब है कि बीते मंगलवार को मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक सुरक्षा दस्ते ने पुलवामा के सम्बूरा इलाके में एक मकान को घेरा था। शक था कि जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकवादी इस मकान में छुपे हुए हैं। इसके बाद मुठभेड़ में तंत्री मारा गया जबकि दूसरे आतंकवादी की मौजूदगी के संबंध में कोई जानकारी नहीं मिली।

तंत्री इस साल के शुरू में श्रीनगर हवाईअड्डे पर हुए एक आत्मघाती हमले का मास्टरमाइंड भी था। दक्षिण कश्मीर के त्राल इलाके के रहने वाले तंत्री की मौत को आतंकी गुट जैश-ए-मोहम्मद के लिए एक बड़ा झटका माना जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *