तेजस्‍वी ने लालू को बताया था शेर, नीतीश की पार्टी ने भजन गाकर यूं दिया जवाब – JDU Spokesperson Neeraj kumar slam Tejashwi Yadav over his comment called Lalu prasad yadav a lion

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के प्रमुख लालू प्रसाद चारा घोटाले के एक मामले में अदालत द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद भले ही जेल में हैं, परंतु उन्हें लेकर बिहार की राजनीति में शुरू बयानबाजी का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है।  राजद नेता तेजस्वी ने गुरुवार को एक कविता के माध्यम से जहां लालू प्रसाद को ‘शेर’ बताया, वहीं शुक्रवार को जनता दल (यूनाइटेड) ने भजन ‘पिंजड़े के पंछी रे तेरा दर्द न जाने कोय’ सुनाकर पलटवार किया है।  जद (यू) के प्रवक्ता नीरज कुमार ने शुक्रवार को यहां संवाददाताओं से कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में जो व्यक्ति जेल में बंद होगा, उसे तो दर्द होगा ही और वह इसे बयां भी करेगा।

उन्होंने कहा, “आज लालूजी अपनी करनी के कारण जेल रूपी पिंजरे में बंद हैं, और फफक रहे हैं। उनकी हालत ‘पिंजड़े के पंछी रे तेरा दर्द न जाने कोय’ वाली हो गई है। न्यायपालिका तो अब सजा बताने वाली है।”  उन्होंने कहा, “तेजस्वी की यह पूरी कवायद ‘भ्रष्टाचार को शिष्टाचार’ बताने के लिए है। अगर लालू जैसे लोगों को ‘शेर’ बताने की कवायद है, तब तो ऐसे लोगों का राजनीति में भगवान ही मालिक है।” तेजस्वी ने गुरुवार को बिहार की धरती को लोकनायक जयप्रकाश नारायण की भूमि बताते हुए कहा था कि फिर प्रकाश की जय होगी।

संबंधित खबरें

अपने काव्यात्मक ट्वीट में तेजस्वी ने अपने पिता की तुलना शेर से करते हुए लिखा, “जयप्रकाश की भूमि पर, फिर प्रकाश की जय होगी, और अंधेरा हारेगा। सिर्फ बोलेगा नहीं, शेर अब दहाड़ेगा।” तेजस्वी ने ट्वीट में अपने प्रतिद्वंद्वियों को अगाह करते हुए लालू प्रसाद को गरीबों का साथी बताया। उन्होंने कहा कि बिहार के इस लाल को पिछड़ा समझने की भूल कोई न करे। सामाजिक न्याय की लड़ाई में लालू सबको पछाड़ देंगे। बता दें कि लालू इन दिनों झारखंड की जेल में बंद हैं। जेल में उन्हें वहां के मैनुअल का पालन करना पड़ रहा है। वह इससे पहले सात बार जेल जा चुके हैं, जिसमें दो बार वह रांची की जेल में रखे गए थे, जबकि, पांच बार उन्हें पटना की कारागार के भीतर रखा गया था, लेकिन तब उन्हें जेल मैनुअल का पालन नहीं करना पड़ा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *