नवजोत सिंह सिद्धू की धमकी- क्रिसमस में खलल डालने वालों की आंख निकाल लेंगे – Navjot Singh Sidhu Warn those who opposed Christmas Day celebration said if anyone staring christians we will gouge their eyes out

पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने क्रिसमस डे पर विवाद करने वालों को गुरुवार को धमकी देते हुए कहा कि जो भी पंजाब में ईसाइयों को नीचे गिराएगा उनकी आंख निकाल ली जाएगी। अमृतसर में राज्य सरकार द्वारा आयोजित किए गए एक क्रिसमस कार्यक्रम में पहुंचे सिद्धू ने कहा “अगर आपको कोई नीचे गिराता है तो हम उसकी आंख निकाल लेंगे।” पिछले साल बीजेपी छोड़ कांग्रेस का दामन थामने वाले सिद्धू ने कहा पंजाब में किसी को भी त्योहार में खलल डालने की इजाजत नहीं दी जाएगी। सिद्धू ने कहा सभी समुदाय पंजाब में शांतिपूर्ण रहते हैं और हर व्यक्ति को किसी भी धर्म का प्रचार और उसे मानने का पूरा हक है।

सिद्धू ने कहा धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार भारतीय संविधान का हिस्सा है। मेरी सरकार ने वादा किया है कि प्रत्येक समुदाय को उनके धार्मिक त्योहार मनाने के लिए उन्हें स्वतंत्र और निष्पक्ष वातावरण दिया जाएगा। इसके साथ ही सिद्धू ने कहा कि प्रत्येक धर्म के लोगों के लिए स्वर्ण मंदिर के द्वार खुले हैं। पंजाब में सभी धर्म के लोग पूर्ण सामंजस्य के साथ रहते हैं। हम वादा करते हैं कि राज्य सरकार किसी को भी शांतिपूर्ण माहौल को खराब करने नहीं देगी।

संबंधित खबरें

मसीह महासभा और जालंधर स्थित रोमन कैथोलिक चर्च का नेतृत्व करने वाले बिशप फ्रांको मुलाक्कल भी इस कार्यक्रम में मौजूद थे। उन्होंने देश के अलग-अलग भागों में क्रिसमस मनाने को लेकर हो रहे विवाद पर चिंता जताई। बिशप फ्रांको ने कहा “देश के कई भागों में ईसाइयों को क्रिसमस मनाने की इजाजत नहीं दी रही है। यह हमारे बुनियादी मानवअधिकारों का उल्लंघन है। प्रत्येक व्यक्ति को अपना त्योहार मनाने की इजाजत मिलनी चाहिए। यह जानकर बहुत ही आश्चर्य होता है कि कुछ लोगों के लिए क्रिसमस एक मुद्दा बन गया है लेकिन मैं बहुत संतुष्ट हूं कि पंजाब में ईसाइयों को क्रिसमस मनाने की पूरी छूट मिली हुई है। राज्य में इस प्रकार की कोई परेशानी नहीं है।”

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *