पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त का सुझाव- नोटा मतों की संख्या जीत के अंतर से अधिक होने पर फिर से कराया जाए चुनाव – Elections to Be Done Again If Number of NOTA Votes Gets Greater Than Victory Margin: T S Krishnamurthy

पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त टी एस कृष्णमूर्ति ने उन निर्वाचन क्षेत्रों में फिर से चुनाव कराने की वकालत की है जहां जीत का अंतर नोटा मतसंख्या की तुलना में कम रही और विजयी उम्मीदवार एक तिहाई मत जुटाने में भी नाकाम रहे। उन्होंने यह विचार व्यक्त किया कि भारत में ‘फर्स्ट-पास्ट-द-पोस्ट निर्वाचन प्रणाली’ अब अपनी उपयोगिता खत्म कर चुकी है। कृष्णमूर्ति ने पीटीआई को बताया, ‘‘मेरे विचार में नोटा बहुत बेहतर है। हमें यह कहना चाहिए कि अगर नोटा मतों के कुछ निश्चित प्रतिशत को पार कर जाता है जैसे अगर विजेता एवं पराजित उम्मीदवार के बीच मतों का अंतर नोटा मतों से कम होता है, तो आप कह सकते हैं कि हमें दूसरी बार चुनाव कराना चाहिए।’’ उन्होंने कहा कि इस उपाय को लागू करने के लिए कानून बनाने की जरूरत है।

नोटा (नन आॅफ द एबव) मतदाता को यह अधिकार देता है कि वह किसी खास सीट से चुनाव लड़ रहे किसी भी उम्मीदवार के लिए मतदान नहीं करे। गुजरात में हालिया विधानसभा चुनावों में 5.5 लाख से अधिक या 1.8 प्रतिशत मतदाताओं ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) पर नोटा बटन दबाया था। वहां कई विधानसभा क्षेत्रों में जीत का अंतर नोटा मतों की संख्या से कम था। गुजरात विधानसभा चुनावों में नोटा मतों की संख्या कांग्रेस एवं भाजपा को छोड़कर किसी भी अन्य पार्टी के मतों की संख्या से अधिक थी।

संबंधित खबरें

उल्लेखनीय है कि गुजरात विधान सभा चुनावों में बीजेपी ने डबल हैट्रिक लगाते हुए जहां लगातार छठी बार वापसी की थी, वहीं कांग्रेस ने भी जबर्दस्त भरपाई की थी। बीजेपी सत्ता में तो आ गई लेकिन 16 सीटें गंवा बैठी है जबकि कांग्रेस ने अकेले 16 सीटों का इजाफा किया था। बीजेपी को कुल 99 तो कांग्रेस को 77 सीटें मिली थीं। वहीं दो साल पहले राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में बीजेपी-कांग्रेस को धूल चटाने वाली अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी (आप) को गुजराती जनमानस ने धूल चटा दी थी। हालात इतने बदतर रहे कि पार्टी के 30 उम्मीदवारों में से दो को छोड़ बाकी सभी की जमानत जब्त हो गई थी। इन दोनों को छोड़ बाकी सभी 28 उम्मीदवारों को नोटा से भी कम वोट पड़ा था। कतरग्राम से नागाजी अंबालिया को कुल 4135 वोट मिले थे जबकि नोटा पर 1693 लोगों ने बटन दबाया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *