मंत्रियों को राज्‍यसभा सभापति वेंकैया नायडू की सलाह- सदन से ‘विनती’ न करें, साम्राज्‍यवादी सोच को छोड़ दें – Rajyasabha speaker Venkaiah Naidu said to ministers that do not request drop imperialist thinking

राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने आज मंत्रियों को फिर यह सुझाव दिया कि वे सरकारी दस्तावेजों को सदन के पटल पर रखते समय ‘‘विनती’’ शब्द का प्रयोग न करें। उन्होंने कहा, ‘‘कृपया विनती मत करिए।’’आमतौर पर मंत्री सदन के पटल पर सरकारी दस्तावेज रखते समय कहते हैं, ‘‘मैं आज की कार्यसूची में मेरे नाम के समक्ष लिखे दस्तावेजों को सदन के पटल पर रखने की विनती करता हूं।’’ नायडू ने वर्तमान शीतकालीन सत्र शुरू होने के पहले ही दिन मंत्रियों को ‘‘विनती’’ करने की ‘साम्राज्यवादी’ सोच को छोड़ देने की सलाह दी थी। उन्होंने कहा था, मंत्री कह सकते हैं, ‘‘मेरे नाम के समक्ष उल्लिखित दस्तावेज सदन के पटल पर रखने के लिए मैं खड़ा हुआ हूं।’’

बहरहाल, जब विधि राज्य मंत्री पी पी चौधरी ने दस्तावेज रखते समय ‘निवेदन’ शब्द का इस्तेमाल किया तो उन्होंने अपने सुझाव की याद दिलाई। नायडू ने चौधरी से कहा, ‘‘कृपया विनती मत करिए।’’ इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि हो सकता है कि जब पहले उन्होंने यह सुझाव दिया हो तो चौधरी सदन में उपस्थित नहीं रहे हों। इसके बाद में जब चौधरी ने अन्य दस्तावेज सदन के पटल पर रखे तो उन्होंने इस शब्द का प्रयोग नहीं किया। नायडू ने कल प्रश्नकाल के दौरान हुए एक प्रसंग का उल्लेख किया जिसमें कांग्रेस के बी के हरिप्रसाद ने कोई टिप्पणी की थी।

संबंधित खबरें

सभापति ने कहा कि उन्होंने इस मामले पर विराम लगाने का निर्णय किया है क्योंकि संबंधित सदस्य ने शुक्रवार की सुबह उनसे मुलाकात कर कहा कि उनकी टिप्पणी तात्कालिक उत्तेजना के कारण निकल गयी और वह आसन का बहुत सम्मान करते हैं। हरिप्रसाद की टिप्पणी का कल सदन की कार्यवाही में कोई उल्लेख नहीं किया गया है। इससे पहले सदन की कार्यवाही शुरू होने पर नायडू ने रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा स्वदेशी तकनीक से विकसित एडवांस एरिया डिफेंस (आड) खोजी मिसाइल के कल सफल परीक्षण पर संगठन के वैज्ञानिकों को सदन की ओर से बधायी दी। नायडू ने इसे रक्षा अनुसंधान के क्षेत्र में डीआरडीओ की अहम उपलब्धि बताते हुये वैज्ञानिकों से सफलता के सिलसिले को जारी रखने की कामना की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *