रिसर्च में दावा- अमिताभ, नेताजी सुभाष चंद्र बोस और लाल बहादुर शास्त्री एक ही परिवार के सदस्य – Global researchers study shows that amitach bachchan lal bahadur shastri and subhash chandra bose may be relatives each other

एक रिसर्च में दावा किया गया है कि अमिताभ बच्चन, सुभाष चंद्र बोस और लाल बहादुर शास्त्री एक ही परिवार से ताल्लुक रखते हैं। रिसर्च में ऐसा कहा जा रहा है कि बॉलीवुड स्टार अमिताभ बच्चन ने जया भादुड़ी से शादी की है जो कि बंगाली हैं जिसके बाद अमिताभ बंगाल के जमाई बन गए। अमिताभ बच्चन का बंगाल से रिश्ता जुड़ गया है। टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक ग्लोबल रिसर्चर्स की एक टीम ने यह पता लगाया कि अमिताभ बच्चन, भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री और स्वतंत्रता सैनानी सुभाष चंद्र बोस आपस में रिश्तेदार हो सकते हैं। स्टडी के मुताबिक ये तीनों दिग्गज कई सौ सालों से एक ही परिवार के वंशज हो सकते हैं।

शोध के अनुसार ऐसा माना जाता है कि कन्नौज से पांच कुलीन कायस्थ करीब एक हजार साल पहले बंगाल में जाकर बस गए थे। इन लोगों को बाद में घोष, मित्रा, दत्ता, गुहा और बोस से पहचाना जाने लगा। इतना ही नहीं इन कुलीन कयास्थ के साथ-साथ पांच ब्राह्मण भी बंगाल में बस गए थे जो कि मुखर्जी और बनर्जी जैसी जातियों से जाने जाने लगे। अगर बंगाल के बोस और उत्तर प्रदेश के श्रीवास्तव की बात करें तो दोनों को एक ही परिवार का समझा जाता है। इसी कारण अमिताभ बच्चन, पूर्व प्रधानमंत्री और सुभाष चंद्र बोस के बीच दूर की रिश्तेदारी मानी जा सकती है।

संबंधित खबरें

बता दें कि यह शोध वर्तमान और बंगाली कूलीन कायस्थ परिवारों से संबंधित व्यक्तियों के एक छोटे समूह के ऐतिहासिक और वंशावली कार्यों के आनुवंशिक विश्लेषण के आधार पर किया गया है। इसी के साथ शोध में यह भी दावा किया गया है कि जब साल 1939 में सुभाष चंद्र बोस को इंडियन नेशनल कांग्रेस का फिर से पार्टी अध्यक्ष चुना गया तो उन्हें उत्तर प्रदेश से काफी वोट मिले थे। बोस को वोट देने वाले लोगों को उस समय यह नहीं पता था कि वह अपने ही किसी को वोट दे रहे हैं।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *