संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार का हमला- मुस्लिम महिलाओं के साथ अन्याय कर रही है कांग्रेस – Ananth Kumar Says That Congress is Doing Injustice with Muslim Women

संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने शुक्रवार को तीन तलाक विधेयक का विरोध करने को लेकर कांग्रेस पर मुस्लिम महिलाओं के साथ अन्याय करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को अतीत से सीख लेना चाहिए व विधेयक को पारित होने देना चाहिए। अनंत कुमार ने संवाददाताओं से कहा, “वे मुस्लिम बहनों के साथ न्याय सुनिश्चित करने के बारे में नहीं सोच रहे हैं। वे शाह बानो मामले की तरह इस मामले में भी अन्याय कर रहे हैं।” कांग्रेस के विधेयक को प्रवर समिति को भेजने की मांग की निंदा करते हुए कुमार ने कहा, “हर दिन वे एक नया बहाना करते हैं और उनकी विधेयक को प्रवर समिति को भेजने की मांग सभी को गुमराह करने की चाल है। मैं इसकी निंदा करता हूं।”

उन्होंने कहा, “कांग्रेस को इतिहास से सीखना चाहिए और तीन तलाक विधेयक को पारित होने देना चाहिए।” भाजपा नेता की यह टिप्पणी गुरुवार को राज्य सभा में तीन तलाक विधेयक पर जारी गतिरोध के मद्देनजर आई है। सरकार ने विधेयक की विस्तृत जांच के लिए विपक्ष द्वारा विधेयक को प्रवर समिति को भेजने की मांग को खारिज कर दिया। सरकार ने मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक, 2017 को शीतकालीन सत्र के आखिरी दिन शुक्रवार को विचार के लिए रखने का निर्णय किया है। यह विधेयक तत्काल तीन तलाक दिए जाने को आपराधिक बनाता है।

संबंधित खबरें

वहीं, कांग्रेस ने गुरुवार को आरोप लगाया था कि एक बार में तीन तलाक को फौजदारी अपराध बनाने वाले वाले विधेयक को संसद में पारित कराने की भाजपा नीत सरकार की ‘‘न तो नीत है और न ही नियत।’’ कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने संवाददाताओं से कहा था कि तीन तलाक संबंधी विधेयक को कांग्रेस तथा सारे विपक्षी दल प्रवर समिति में भेजना चाहते हैं ताकि इसकी कमियों को दूर किया जा सके। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार इस विधेयक को पारित कराने के लिए मामले में संसद से भाग रही है। उन्होंने कहा कि तीन तलाक संबंधित विधेयक पर विपक्षी दल ही नहीं तेलुगु देशम पार्टी और बीजद भी सरकार के साथ नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *