Bollywood is going to make a biopic on punjab Amrik Kaur lioness of border areas – पंजाब में 18 आतंकियों को मौत के घाट उतारा, शौर्य चक्र पाने वाली अमरीक कौर पर बनेगी फिल्‍म

भाग मिल्खा भाग, पान सिंह तोमर और नीरजा जैसी फिल्मों के बाद अब बॉलीवुड में शौर्य चक्र पाने वाली अमरीक कौर के ऊपर फिल्म बनाने की तैयारी की जा रही है। पंजाब में 18 आतंकियों को मौत के घाट उतारने वाली अमरीक की जिंदगी पर ‘सरदारनी’ नाम से फिल्म बनाने का फैसला किया गया है। सुनील मनचंदा इस फिल्म का निर्माण करेंगे और इसकी स्क्रिप्ट रमन कुमार, अमरीक गिल और अभिषेक दूधिया के साथ मिलकर लिखी जाएगी। फिल्म का डायरेक्शन दूधिया करेंगे। मनचंदा इससे पहले तेरे नाम, चीनी कम और पा जैसी फिल्मों को प्रोड्यूस कर चुके हैं।

अमरीक कौर को पंजाब के लोग लीजेंड मानते हैं। हिंदूस्तान टाइम्स के मुताबिक 1991 में अमरीक के पति को आतंकवादियों ने मौत के घाट उतार दिया था, उसके बाद से ही पंजाब की इस शेरनी ने अपने राज्य से आतंक को खत्म करने की कसम खा ली थी। साल 2014 में दुनिया को अलविदा कहने वाली अमरीक को ‘सीमा क्षेत्रों की शेरनी’ कहा जाता था। अमरीक की शादी बहुत ही कम उम्र में बहादुरपुर के रहने वाले सुबेग सिंह से करा दी गई थी। वह अपने पति के साथ इंडिया-पाकिस्तान बॉर्डर के करीब वोल्तोहा इलाके में खेतों पर काम करने जाया करती थीं।

12 सितंबर 1991 के दिन जब अमरीक अपने पति और एक सहयोगी मुख्तियार सिंह के साथ खेत में काम करके लौट रही थीं, तब उनके ऊपर अचानक से कुछ आतंकियों ने हमला कर दिया। हमले में सुबेग सिंह और मुख्तियार की मौत हो गई। अमरीक की बहू रुपिंदर कौर बताती हैं, ‘उसके बाद उन्होंने यह कसम खा ली कि वह पंजाब से आतंक को मिटा कर ही रहेंगी। उनके नाम पर तीन बंदूके थीं।’

शौर्य चक्र पर बात करते हुए रुपिंदर ने बताया, ‘एक बार जब अमरीक सुबह-सुबह गुरुद्वारे से लौट रही थीं, तब उन्होंने देखा कि एक आतंकी ने इंस्पेक्टर को गोलियों से छलनी कर दिया है। जिसके तुरंत बाद ही वह पुलिस स्टेशन गईं। उनके इस साहस को देखते हुए उन्हें 1995 में शौर्य चक्र दिया गया। उन्होंने अपनी जिंदगी में 18 आतंकियों को मौत के घाट उतारा था और 24 ने उनके सामने सरेंडर किया था।’ आपको बता दें कि अमरीक की मौत से सालों पहले ही बीमारी की वजह से उनके दो बेटों की मौत हो चुकी थी। एक बेटे की मौत 2007 में हुई थी तो वहीं दूसरे की 2010 में हुई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *