Center consider on new proposal to control visitor at Taj Mahal they would spend only three hours inside the monument – तीन घंटे से ज्यादा नहीं देखने दिया जाएगा ताजमहल रोज देखने वालों की संख्या भी होगी तय

दिव्या ए

नरेंद्र मोदी की सरकार दुनिया भर के पर्यटकों के बीच लोकप्रिय ताजमहल को लेकर अहम फैसला लेने जा रही है। वीकएंड और छुट्टियों के दिन पर्यटकों की बड़ी तादाद से निपटने के लिए नई योजना पर विचार किया जा रहा है। इसके तहत ताजमहल देखने की अविध तीन घंटे तक सीमित करने के अलावा पर्यटकों की संख्या भी तय कर दी जाएगी। इस पर अमल होने की स्थिति में एक दिन में 40,000 पर्यटकों को ही ऐतिहासिक इमारत का दीदार करने का मौका मिल सकेगा। भारतीय पुरातत्व विभाग (एएसआई) की सलाह पर केंद्र सरकार जल्द ही फैसला ले सकती है। पर्यटन एवं संस्कृति मंत्रालय और एएसआई के अधिकारियों के बीच हुई बैठक में इस पर विचार-विमर्श किया गया है।

केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री डॉ. महेश शर्मा ने इस बाबत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बैठक में एएसआई ने पर्यटकों की संख्या और समय तय करने के अलावा कई अन्य सुझाव दिए हैं, ताकि पर्यटकों को ताज का दीदार करने में परेशानियों का सामना न करना पड़े। साथ ही किसी भी तरह के हादसे को रोका जा सके। केंद्रीय मंत्री ने स्पष्ट किया कि इन सलाहों को मानने के अलावा सरकार के पास और कोई विकल्प नहीं है। दरअसल, गुरुवार (28 दिसंबर) को ताजमहल में पर्यटकों के प्रवेश का वक्त समाप्त होने से कुछ देर पहले एक प्रवेश द्वार पर भगदड़ मच गई थी। इस घटना में पांच लोग घायल हो गए थे। इसके बाद एएसआई की एक टीम ने सोमवार (1 जनवरी) को ताजमहल का दौरा किया था। टीम ने छानबीन के बाद संस्कृति मंत्रालय को एक रिपोर्ट सौंपी थी। पुरातत्व विभाग के मुताबिक, ताजमहल का दीदार करने के लिए हर दिन औसतन 35,000-40,000 पर्यटक आते हैँ। लेकिन, छुट्टियों और सप्ताह के अंत में यह संख्या 60,000-70,000 तक पहुंच जाती है। ऐसे में भीड़ को नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है।

बड़ी खबरें

मौजूदा नियमों के तहत ताजमहल देखने के लिए आने वाले पर्यटकों की संख्या तय नहीं है। साथ ही एक बार अंदर घुसने के बाद लोग जितना चाहे उतना वक्त बिता सकते हैं। एएसआई के एक अधिकारी ने बताया कि पर्यटकों की संख्या सीमित करने पर 40,000 टिकटों की बिक्री के बाद बंद ऑनलाइन और ऑफलाइन काउंटर बंद कर दिए जाएंगे। इसके अलावा तहखाने को देखने के लिए अलग से टिकट बेचने का प्रस्ताव भी दिया गया है। मालूम हो कि तकरीबन दो महीने पहले सीआईएसएफ ने एएसआई से पर्यटकों की संख्या को नियंत्रित करने का अनुरोध किया था। अर्धसैनिक बल के जवान ताजमहल की सुरक्षा के अलावा पर्यटकों के प्रवेश का प्रबंधन करते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *