Karni Sena accept the proposal of Sanjay Leela Bhansali to watch Padmavat – पद्मावत रि‍लीज से पहले करणी सेना देखेगी फि‍ल्‍म, संजय लीला भंसाली का न्‍यौता कि‍या स्‍वीकार

‘पद्मावत’ वि‍वाद में नया मोड़ आ गया है। फि‍ल्‍म का वि‍रोध कर रही करणी सेना ने संजय लीला भंसाली का न्‍यौता स्‍वीकार कर लि‍या है। फि‍ल्‍म के प्रदर्शन का लगातार वि‍रोध करने वाले संगठन के प्रमुख लोकेंद्र सिंह कालवी ने सोमवार (22 जनवरी) को फि‍ल्‍म देखने की घोषणा की है। कालवी ने कहा है कि करणी सेना फिल्म पद्मावत को रिलीज से पहले देखने को तैयार है। हालांकि, उन्होंने साफ कर दिया कि यदि फिल्म रिलीज हो गई तो करणी सेना ना तो फिल्म देखेगी और ना ही किसी को देखने देगी। कालवी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि उन्‍हें यह तो बताया जाए कि फि‍ल्‍म कब और कहां देखना है। उन्‍होंने बताया कि भंसाली की ओर से मिले पत्र में इस बात का कहीं भी जिक्र नहीं है कि फिल्म देखने कब और कहां आना है। हालांकि‍, कालवी ने आरोप लगाया कि भंसाली की ओर से फिल्म देखने के लिए भेजा गया पत्र नाटक के अलावा कुछ नहीं। कालवी ने सोमवार (22 जनवरी) को लखनऊ में उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदि‍त्‍यनाथ से मुलाकात के बाद भंसाली का न्‍यौता स्‍वीकार करने की घोषणा की है।

संबंधित खबरें

कालवी बोले कि संजय लीला भंसाली 5 साल बाद, 10 साल बाद या 15 साल बाद, जब भी फिल्म दिखाना चाहें, वह देखने को तैयार हैं। लेकि‍न, रिलीज से पहले ये सब होना चाहिए। कालवी ने कहा, ‘पद्मावत को लेकर उत्‍तर प्रदेश भी अन्‍य राज्य सरकारों की तरह चिंतित है। जब पद्मावती नाम से यह फिल्म सामने आई और विरोध शुरू हुआ तो योगी आदि‍त्‍यनाथ ने सबसे पहले आवाज उठाई थी। अब हम पद्मावती नहीं पद्मावत के विरोध में खड़े हैं। इसे रोकने के लिए अंतिम हथौड़ा चलना चाहिए। अब यह सीएम योगी ही बताएंगे कि वह इस फिल्म को लेकर क्या कदम उठाएंगे। हमारा काम अपील करना था।’ उन्‍होंने पद्मावत दिखाने के लिए भंसाली के पत्र पर भी प्रतिक्रिया दी। कालवी ने कहा, ‘संजय लीला भंसाली की तरफ से पत्र आया है, लेकि‍न वह एक धोखा है। फिल्म देखने के लिए बुलाया है, लेकिन तारीख नहीं बताई है। मैं तो फिल्म देखने के लिए भी तैयार हूं। मैं चाहता हूं कि मीडिया भी साथ चले। भंसाली से अपील है कि वह मजाक न बनाएं। वह तारीख बताएं, मैं फिल्म देखूंगा।’ वहीं, राजस्थान में करणी सेना के प्रदेशाध्यक्ष महिपाल सिंह मकराना का कहना है कि फिल्म किसी भी हाल में रिलीज नहीं होने दी जाएगी। इसमें इतिहास को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया है।

मालूम हो कि‍ सुप्रीम कोर्ट से हरी झंडी मि‍लने के बाद ‘पद्मावत’ को देश भर में 25 जनवरी को रि‍लीज कि‍या जाएगा। शीर्ष अदालत के बावजूद फिल्म के खिलाफ विरोध नहीं थम रहे हैं। कई जगहों पर करणी सेना का हिंसक प्रदर्शन जारी है। संगठन ने फिल्म का प्रदर्शन नहीं होने देने का एलान कि‍या है। विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने भी अब फिल्म को प्रदर्शित नहीं होने देने की चेतावनी दी है। तोगड़िया ने कहा है कि वीएचपी इसके खिलाफ सड़क पर उतरकर प्रदर्शन करेगी। तोगड़िया ने फिल्म की रिलीज पर रोक के लिए केंद्र सरकार से जल्लीकट्टू की तर्ज पर अध्यादेश लाने की मांग की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *