PIDS system will be used to protect pm modi and his residence from any intrusion – मोदी की हिफाजत का ‘मेड इन इंडिया’ प्लान, पीएम आवास में घुसपैठ रोकने का नया सिस्टम, SPG कर रही तैयारी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा को और भी पुख्ता करने के इंतजाम किए जा रहे हैं। सरकार लोक कल्याण मार्ग स्थित पीएम मोदी के आवास और उसके आसपास की सुरक्षा को कड़ा करने की तरफ ध्यान दे रही है, जिसके लिए पेरिमीटर इंट्रूजन डिटेक्शन सिस्टम (PIDS) के तहत सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए जाएंगे। इसके अलावा सबसे खास बात यह रहेगी कि पीएम की सुरक्षा के लिए इंडिया में बने सामानों का ही इस्तेमाल किया जाएगा। मतलब ‘मेड इन इंडिया’ के तहत पीएम की सुरक्षा के लिए काम होगा। पीआईडीएस के तहत सुरक्षा के इंतजाम करने की सारी जिम्मेदारी स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) को दी गई है। इकनॉमिक टाइम्स के मुताबिक इस साल के मध्य तक सारे बंदोबस्त कर दिए जाएंगे।

इस सिस्टम में ऐसे सेंसर्स लगे होंगे जो 2.8 किलोमीटर पेरिमीटर वाले कॉम्प्लेक्स में किसी भी तरह की घुसपैठ का पता लगा लेंगे। इसके अलावा सीसीटीवी कैमरों के जरिए भी निगरानी रखी जाएगी। लोक कल्याण मार्ग और तीन मूर्ति मार्ग राजधानी दिल्ली के बहुत ही महत्वपूर्ण इलाके हैं, जिन्हें सुरक्षित रखना बेहद जरूरी है। इन इलाकों की सुरक्षा पर किसी भी तरह की ढील नहीं दी जा सकती।

संबंधित खबरें

एसपीजी की तरफ से जारी किए गए दस्तावेजों में कहा गया है, ‘पीआईडीएस के सभी सिस्टम भारत में ही बनने चाहिए और बोली लगाते वक्त उस सिस्टम के मॉडल को परिलक्षित भी किया जाना चाहिए।’ इसके अलावा इन सिस्टम्स को चलाने के लिए 10 एसपीजी ऑफिसर्स को खास ट्रेनिंग भी दी जाएगी। जिसे भी पीआईडीएस सिस्टम को बनाने का और सेट करने का काम एसपीजी जिसे भी सौंपेगा उसे तीन माह का वक्त दिया जाएगा। कुछ दिनों पहले पीआईडीएस सिस्टम को दिल्ली और हैदराबाद एयरपोर्ट पर भी सेट किया गया है, ताकि सुरक्षा में किसी भी तरह की कोई चूक ना हो सके। पीआईडीएस सिस्टम में रेडियो फ्रिक्वेंसी इंट्रूडर डिटेक्शन सिस्टम तो शामिल है ही, साथ ही साथ इंफ्रारेड इंट्रूडर डिटेक्शन सिस्टम और सीसीटीवी कैमरे भी शामिल किए गए हैं। पीआईडीएस सिस्टम लगने के बाद अगर किसी भी तरह की घुसपैठ की जाएगी तो कंट्रोल रूम में अलार्म बज जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *