Tamilnadu Politics, old history of Actor turn politicians, MG Ramchandran, Karunanidhi, Jayalalita, Rajnikanth – इन फिल्मी सितारों का तमिलनाडु की राजनीति में रहा है दबदबा, लाइन में रजनीकांत 

शीर्ष फिल्मी सितारों का अपना राजनैतिक दल बनाना तमिलनाडु के लिये कुछ नया नहीं है। इस राज्य पर दशकों से सिने जगत की हस्तियों ने राज किया है। 67 वर्षीय सुपरस्टार रजनीकांत प्रदेश की राजनीति में कूदने वाले नये सितारे हैं। उन्होंने तमिलनाडु के आगामी विधानसभा चुनाव से पहले अपनी पार्टी बनाने की आज घोषणा की। करिश्माई अभिनेता एम जी रामचंद्रन तमिलनाडु में पहले सितारे थे जो अन्नाद्रमुक बनाकर 1970 के दशक में राज्य की सत्ता में आए। उनके चिर प्रतिद्वंद्वी और पूर्व मुख्यमंत्री एम करुणानिधि का भी फिल्मी दुनिया से नाता रहा है। उन्होंने कई फिल्मों की पटकथाएं लिखीं।

करुणानिधि 1969 में द्रमुक संस्थापक सी एन अन्नादुरै की मृत्यु के बाद उनके उत्तराधिकारी बने और राज्य के मुख्यमंत्री बने। अन्नादुरै ने इससे दो साल पहले कांग्रेस के खिलाफ अपनी पार्टी को ऐतिहासिक जीत दिलाई थी। रामचंद्रन, एमजीआर के नाम से लोकप्रिय थे। वह अपनी फिल्मों में गरीबों के मसीहा की भूमिका निभाते थे जबकि रजनीकांत ने एक जोरदार शख्सियत के रूप में अपने फिल्मी करियर का आगाज किया और वह अपने स्टाइल और स्टंट के लिये प्रसिद्ध हैं। करुणानिधि से मतभेद के बाद रामचंद्रन ने द्रमुक से अलग होकर अपनी पार्टी बनाई थी।

संबंधित खबरें

एमजीआर के संरक्षण में राजनीति के तौर-तरीके सीखने वाली जे जयललिता ने उनकी मृत्यु के बाद रामचंद्रन की विरासत को संभाला। जयललिता ने 1960 और 1970 के दशक में कई सुपर हिट फिल्मों में एमजीआर के साथ काम किया था। एमजीआर की मृत्यु के बाद अन्नाद्रमुक दो फाड़ हो गई और फिर 1980 के दशक के उत्तरार्द्ध में दोनों धड़ों का विलय हो गया और जयललिता ने पार्टी की बागडोर संभाली। वह दिसंबर 2016 में मृत्यु होने तक अन्नाद्रमुक की सर्वोच्च नेता बनी रहीं। वह तीन बार राज्य की मुख्यमंत्री बनीं। उन्होंने 2011 और 2016 में लगातार दो विधानसभा चुनावों में अपनी पार्टी को सफलता दिलाई।

सिनेस्टार से नेता बने इन हस्तियों का अपने प्रशंसकों पर जबर्दस्त प्रभाव था। यह उनके प्रशंसकों के अपने नायकों को भगवान की तरह पूजने में झलकता है। इसी के सहारे उन्होंने चुनावी जीत भी हासिल की। हालांकि, कुछ सितारे राजनीति के मैदान में सफलता का स्वाद चखने में विफल रहे। एमजीआर के समसामयिक और अभिनेता शिवाजी गणेशन हालांकि कांग्रेस पार्टी में रहने के दौरान राजनीति में सक्रिय रहे, लेकिन 1988 में अपनी पार्टी बनाने के बाद सफलता पाने में विफल रहे। पार्टी गठित करने के बाद हुए विधानसभा चुनाव में गणेशन की पार्टी बुरी तरह पराजित हुई। यहां तक कि तंजावुर जिले में अपनी सीट भी वह नहीं जीत सके।

लोकप्रिय अभिनेता विजयकांत ने भी 2006 के विधानसभा चुनाव से पहले डीएमडीके नाम की अपनी पार्टी बनाई। साल 2011 का विधानसभा चुनाव उनकी पार्टी ने जयललिता की अन्नाद्रमुक के साथ गठबंधन करके लड़ा। यद्यपि यह गठबंधन चुनाव जीतकर सत्ता में आया, लेकिन जब विजयकांत ने अपने गठबंधन की सरकार के फैसलों पर सवाल उठाने शुरू कर दिये तो उनकी पार्टी को गठबंधन से अलग होना पड़ा। साल 2016 का विधानसभा चुनाव उनकी पार्टी अकेले लड़ी लेकिन उसे करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा। तमिलनाडु में फिल्मी सितारों की सफलता ने पड़ोसी आंध्र प्रदेश को भी प्रभावित किया। वहां अभिनेता रहे एन टी रामाराव ने तेलगू देशम पार्टी का गठन किया और उनकी पार्टी 1980 के दशक में राज्य की सत्ता में आई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *