Yogi Adityanath gets trolled over his Comment to CM Siddaramaiah on Beef in Karnataka – कर्नाटक में बीफ बैन की बात कर ट्रोल हो गए योगी, लोगों ने कहा- हिंदू भी तो खाते हैं

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया पर गोमांस को लेकर उनके हिंदू होने पर सवाल खड़ा किया तो ट्वीटर पर लोगों के दिमाग का पारा चढ़ गया। लोगों ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया। योगी आदित्यनाथ ने सिद्धारमैया पर गोमांस खाने वालों की वकालत करने के लिए तीखा हमला बोला था। सूबे में चुनाव नजदीक हैं, इसलिए योगी बीजेपी की एक रैली को संबोधित करने के लिए बेंगलुरु पहुंचे थे। रविवार (7 जनवरी) को उन्होंने कहा कि खबरों से पता चला कि सिद्धारमैया खुद को हिंदू कहते हैं। अगर वह हिंदू है तो गोमांस खाने वालों की वकालत क्यों करते हैं। हिंदुत्व गोमांस खाने की इजाजत नहीं देता है। गोमांस को लेकर किए योगी के इस हमले से सोशल मीडिया पर कई लोग तिलमिला गए। लोगों ने उन्हें  उनकी ही पार्टी के नेताओं का हवाला देकर ट्रोल करना शुरू कर दिया।

अमृता धवन नाम की यूजर ने लिखा- ओह… तो अब बीजेपी फिर से देश में बीफ खाने की गलत परिभाषा बताकर हंगामा खड़ा करना चाहती है। क्या योगी आदित्यनाथ बता सकते हैं कि गोवा में मनोहर पर्रिकर गोमांस खाने की वकालत कर रहे हैं, वह हिंदू हैं या नहीं? एक यूजर ने हिदुस्तान टाइम्स के न्यूज पेपर की अंग्रेजी हेडलाइन का स्क्रीनशॉट चिपका दिया, जिसमें लिखा था- मेघालय के बीजेपी नेता ने सस्ते बीफ का वादा किया, बछड़ों के व्यापार पर लगे बैन पर रोष। एक शख्स ने बीजेपी नेता किरण रिजिजू की खबर का लिंक दे दिया, जिस पर लिखा था- किरण रिजिजु ने दिया नक्वी को जवाब: मैं बीफ खाता हूं, क्या कोई मुझे रोक सकता है?

दीपक केलामने ने लिखा- बीमार विचारधाराओं को फैलाने का काम जोरों पर है, मोदी का मंदिर बनाकर ही मानेंगे। जुमला मुक्त भारत नाम के यूजर ने लिखा- कर्नाटक वालों जरा संभल जाओ, नाटक वाले आ गए। इंक्रेडिबल इंडियन नाम के यूजर ने लिखा- अगर योगी हिंदू हैं तो ऐसा कैसे सोच सकते हैं कि गाय और धर्म आदि के नाम पर उनके भगवान को खुश करने के लिए वह इंसानों की हत्या होने देंगे। कोई भी व्यक्ति जो भेदभाव करता है, वह हिदुत्व का अपमान करता है।

योगी ने सूबे की कांग्रेस सरकार पर हमला करते हुए कहा था कि जब बीजेपी की सरकार थी तब पार्टी गायों की हत्या पर पूरी तरह से बैन लगाने के लिए बिल लाई थी। कांग्रेस ने बिल पास नहीं होने दिया। उन्होंने धर्म के नाम पर बांटने का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस के भ्रष्टाचार और उसकी विभाजनकारी नीतियों के कारण वह देश पर बोझ बन गई है। उन्होंने कहा था कि कांग्रेस ने पांच वर्षों में राज्य को विकसित करने के बजाय पीछे धकेल दिया है, इसलिए राज्य के विकास और युवाओं और किसानों की मदद के लिए बीजेपी को राज्य में
लाने का समय आ गया है। नवंबर में विधानसभा चुनावों से पहले होने वाली अमित शाह की परिवर्तन यात्रा में भी उनका नाम शामिल किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *