केपटाउन स्टेडियम में फहराया उल्टा तिरंगा, भारतीय ने सुधरवाई गलती – South Africa avoided Tricolour faux pas in Cape Town Newlands Stadium ground staff noticed it

केपटाउन के न्यूलैंड्स स्टेडियम में बुधवार (3 जनवरी, 2017) को उल्टा तिरंगा फहरा दिया गया। करीब दो घंटे तक ऐसा ही होता रहा। हैरानी की बात यह है कि भारतीय टीम या प्रबंधन को इसकी भनक तक नहीं लगी। बाद में पत्रकारों ने इस गलती को देखा तो उन्होंने तुरंत भारतीय प्रबंधन को इसकी जानकारी दी। जिसके बाद दक्षिणी प्रबंधन के हस्तक्षेप के बाद भारतीय तिरंगा सीधा फहराया गया। रिपोर्ट के अनुसार जिन कर्मचारियों को तिरंगा फहराने का कार्य दिया गया था उन्हें इसकी जानकारी नहीं थी कि तिरंगे को कैसे फहराते हैं। दरअसल हर क्रिकेट मैच के पहले ही स्टेडियम में दोनों टीमों के राष्ट्रीय झंडों के अलावा मेजबान क्रिकेट बोर्ड का झंडा फहराया जाता है।

बता दें कि शखर धवन को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शुक्रवार से यहां शुरू होने वाले पहले टेस्ट मैच के लिए फिट घोषित कर दिया गया है लेकिन रविंद्र जडेजा का वायरल (बीमारी) के कारण खेलना संदिग्ध है। दक्षिण अफ्रीका रवाना होने से पहले धवन टखने की चोट से परेशान थे लेकिन अब वह न्यूलैंड्स में मुरली विजय के साथ पारी का आगाज करने के लिए तैयार हैं। बीसीसीआई ने बयान में कहा, ‘भारतीय सलामी बल्लेबाज शिखर धवन फिट हैं और पहले टेस्ट की टीम में चयन के लिए उपलब्ध रहेंगे। टीम के दक्षिण अफ्रीका रवाना होने से पहले उनका टखना चोटिल हो गया था।’

संबंधित खबरें

मुरली विजय ने आगे कहा, ‘मैं अंतिम एकादश को लेकर सुनिश्चित नहीं हूं लेकिन शिखर ने खुद को फिट घोषित कर दिया है। इसलिए इस टेस्ट मैच से पहले हमारे लिए यह अच्छा है। यह कप्तान और टीम प्रबंधन के लिए अच्छी माथापच्ची है।’  जडेजा के पास हालांकि मैच तक पूरी तरह फिट होने के लिए अब समय कम है और उन्हें उपचार के लिए अस्पताल ले जाया गया।

बीसीसीआई ने कहा कि जडेजा पिछले दो दिनों से वायरल बीमारी से पीड़ित हैं। बीसीसीआई का चिकित्सा दल उन पर निगरानी रखे हुए है और वह केपटाउन में स्थानीय चिकित्सा दल के भी संपर्क में है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *