सचिन तेंदुलकर ने पीएम नरेंद्र मोदी को लिखी चिट्ठी, की यह खास दरख्वास्त – Sachin Tendulkar Wrote Letter to PM Narendra Modi- Join International Medal Winners in CGHS Scheme

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर उनसे आग्रह किया है कि भारत के सभी अंतरराष्ट्रीय पदक विजेताओं को केंद्र सरकार स्वास्थ्य योजना (सीजीएचएस) में शामिल किया जाए। स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों के दौरान खिलाड़ियों की मुश्किलों पर बात करते हुए तेंदुलकर ने अपने पत्र में हॉकी ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता मोहम्मद शाहिद के अंतिम दिनों का उदाहरण दिया है। तेंदुलकर ने 24 अक्तूबर को मोदी को पत्र में लिखा, ‘‘मैं संबंधित खिलाड़ी के रूप में अपने देश के सभी खिलाड़ियों की ओर से लिखते हुए आपसे आग्रह करता हूं कि आप हस्तक्षेप करके अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतने वाले सभी खिलाड़ियों को सीजीएचएस सुविधाओं के पात्र खिलाड़ियों की सूची में शामिल करें।’’

सीजीएचएस सुविधाओं का फायदा केंद्र सरकार के कर्मचारियों को मिलता है जो इससे जुड़े मेडिकल केंद्रों पर उपचार करा सकते हैं। तेंदुलकर ने प्रधानमंत्री मोदी को सूचित किया कि वे इस मुद्दे को इससे पहले खेल मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय दोनों के साथ उठा चुके हैं। तेंदुलकर ने लिखा, ‘‘उन्होंने (स्वास्थ्य मंत्रालय ने) इस विचार का समर्थन किया है लेकिन 14 सितंबर को अपने जवाब में सीजीएचएस योजना के तहत विस्तृत रूप से खिलाड़ियों पर विचार करने में अक्षमता जताई है। अपने शुरुआती आग्रह के आधार पर मैं उनकी पूरी तरह से सराहना करता हूं और उनकी स्थिति समझ सकता हूं।’’

इस दिग्गज बल्लेबाज ने प्रधानमंत्री से ‘पायलट/परीक्षण’ योजना के तहत कम से कम अंतरराष्ट्रीय पदक विजेताओं (गैर सरकारी कर्मचारी) के नाम पर विचार करने को कहा है जिसकी लागत/फायदों का खेल मंत्रालय आकलन कर सकता है। तेंदुलकर ने लिखा, ‘‘एक बार लागत/फायदों के आकलन के बाद इन्हें चरणबद्ध रूप से खिलाड़ियों के अतिरिक्त वर्गों को दिया जा सकता है, पायलट कार्यक्रम की उपयोगिता के स्वास्थ्य मंत्रालय के आकलन करने के बाद।’’ तेंदुलकर ने दिवंगत शाहिद का हवाला दिया जिन्हें अपने अंतिम दिनों में ही मदद मिल सकी। यकृत से जुड़ी बीमारी के कारण शाहिद का निधन हुआ।

उन्होंने कहा, ‘‘सभी खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी नहीं दी जाती, इसलिए अगर हम अंतरराष्ट्रीय पदक विजेताओं के सीमित पूल पर भी विचार करते हैं तो अपने महान हॉकी खिलाड़ियों में से एक मोहम्मद शाहिद के प्रति उदासीनता जैसी घटनाओं से बच सकते हैं।’’ तेंदुलकर ने लिखा, ‘‘मैंने कई गंभीर चोटों का सामना किया जहां मेरे सामने अनिश्चित वापसी का दबाव था। खिलाड़ी को काफी शारीरिक और मानसिक तनाव से गुजरना पड़ता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘चिकित्सकीय खर्चा खिलाड़ियों पर अतिरिक्त भार डालता है।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *