सबसे तेज 300 विकेट लेने के बाद अब इस ‘लक्ष्य’ को भेदना चाहते हैं अश्विन – R Ashwin eyes 600 Test wickets after record-breaking feat in Nagpur

श्रीलंका के खिलाफ सोमवार को दूसरे टेस्ट मैच में भारत की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले दिग्गज गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन ने अपने करियर के 300 टेस्ट विकेट भी पूरे किए। अश्विन ने कहा है कि वह इस आंकड़े को ‘डबल’ करना चाहते हैं। विदर्भ क्रिकेट संघ स्टेडियम में सोमवार को खेले गए मैच में अश्विन सबसे तेजी से करियर के 300 विकेट पूरे करने वाले पहले खिलाड़ी बन गए हैं। अश्विन ने 54वें टेस्ट मैच में यह आंकड़ा छुआ है। इस सूची में अश्विन ने अॉस्ट्रेलिया के दिग्गज डेनिस लिली को पछाड़ते हुए पहला स्थान हासिल कर लिया है। अश्विन ने 54 टेस्ट मैचों में 300 विकेट पूरे किए हैं, वहीं लिली ने 56 टेस्ट मैचों में 300 विकेट पूरे करने का रिकॉर्ड बनाया था। अश्विन ने कहा, “मैं उम्मीद कर रहा हूं कि 300 विकेट की इस उपलब्धि को मैं 600 विकेट में तब्दील कर सकूं। मैंने अभी केवल 54 टेस्ट मैच ही खेले हैं। स्पिन गेंदबाजी उतनी आसान नहीं है, जितनी यह नजर आती है।” दूसरे टेस्ट से पहले अश्विन को 300 विकेट पूरे करने के लिए आठ विकेट और लेने थे, जो उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में हासिल किए।

बड़ी खबरें

भारतीय टीम ने विदर्भ क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में श्रीलंका को एक पारी और 239 रनों से हरा दिया। इस टेस्ट मैच में अश्विन ने कुल आठ विकेट लिए और 300 विकेट पूरे करने की उपलब्धि भी हासिल की। केवल इतना ही नहीं। अश्विन ने सबसे तेजी से 300 विकेट पूरे करने वाले भारतीय गेंदबाजों की सूची में अनिल कुंबले को पछाड़ा है। कुंबले ने 66 मैचों में 300 विकेट लिए थे, जो अश्विन ने 54 मैचों में हासिल किए हैं। अश्विन ने कहा, “इसमें काफी मेहनत लगती है। मैंने और रवींद्र जड़ेजा ने काफी गेंदबाजी की थी। टीम की ओर से हाल ही में मिले ब्रेक से हमें श्रीलंका के खिलाफ सीरीज के लिए तरोताजा होने में काफी मदद मिली।”

वहीं महान स्पिनर मुथैया मुरलीधरन ने भी अश्विन को बधाई दी। उन्होंने कहा कि इस समय अश्विन दुनिया के सर्वश्रेष्ठ स्पिन गेंदबाज हैं। मुरलीधरन ने एक इंटरव्यू में कहा,‘‘ मैं अश्विन को बधाई देना चाहता हूं । टेस्ट क्रिकेट में 300 विकेट लेना बड़ी उपलब्धि है। वह वनडे टीम में नहीं हैं, लेकिन उम्मीद है कि भारत के लिए वनडे क्रिकेट भी लगातार खेलकर उसमें भी इस प्रदर्शन को दोहरायेगा।’’ मुरलीधरन ने कहा,‘‘निश्चित तौर पर इस समय वह दुनिया का सर्वश्रेष्ठ स्पिनर है ।’’

यह पूछने पर कि क्या उन्हें लगता है कि वह उनका रिकॉर्ड तोड़ सकेगा, मुरलीधरन ने कहा कि अभी उसके सामने लंबा करियर है और वह कई रिकॉर्ड बनाएगा । उन्होंने कहा,‘‘ वह अभी 31-32 साल का ही है और कम से कम चार पांच साल और खेलेगा। वैसे यह इस पर भी निर्भर होगा कि वह कैसा प्रदर्शन करता है और फिटनेस का स्तर क्या रहता है। यह समय ही बतायेगा क्योंकि 35 साल के बाद बहुत आसान नहीं होता।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *