Chess Players criticizes FIDE World Chess Championship 2018 Controversial Logo, says Is this way to Promote Kids? – वर्ल्ड चेस चैंपियनशिप 2018: कामसूत्र जैसे लोगो को लेकर बवाल, प्लेयर्स बोले- ऐसे बच्चों को करेंगे प्रमोट?

खेल जगत में वर्ल्ड चेस चैंपियनशिप 2018 के लोगो को लेकर इस वक्त हो-हल्ला हो रहा है, जिसका डिजाइन कामसूत्र की याद दिलाता है। हाल ही में इसे जारी किया गया है, जिसके बाद से इस पर बवाल मचा है। चेस प्लेयर्स से लेकर खेल जगत के एक्सपर्ट्स तक इसकी भरसक निंदा कर रहे हैं। जबकि, टि्वटर पर लोग इसे लेकर खिल्ली उड़ा रहे हैं। लोगों ने इसे बेहूदा बताया है। साथ ही पूछा है कि क्या इसी तरह के लोगो के जरिए आप बच्चों को प्रमोट करेंगे? FIDE वर्ल्ड चेस चैंपियनशिप के लोगो पर घमासान इसलिए मचा है, क्योंकि यह कुछ-कुछ कामसूत्र से मेल खाती आकृति की याद दिलाता है। चेस टूर्नामेंट की थीम में तैयार किए गए इस लोगो में दो शरीर एक-दूजे से लिपटे दिख रहे हैं। हाथों में हाथ और पैरों में पैर डालकर वे चेस खेलने में मशगूल हैं। मॉस्को के शूका डिजाइंस ने चेस चैंपियनशिप के दो लोगो तैयार किए हैं। एक में कुछ हाथ चेस बोर्ड पर मोहरे रखते और लिए हुए दिख रहे हैं। जबिक, दूसरे वाले लोगो में दो शरीर लिपटकर चेस खेलते दिखाए गए हैं।

संबंधित खबरें

पूर्व चेस चैंपियन सुसन पोल्गर ने टि्वटर पर इस बारे में लिखा, “क्या यह (लोगो) बच्चों को प्रमोट करने के लिए ठीक है?।” चूंकि लोगो में चेस बोर्ड 6X6का दिखाया गया है। पांच बार के वर्ल्ड चैंपियन रहे विश्वनाथन आनंद इस पर बोले, “मैं चाहता हूं कि बोर्ड 8X8का हो। पॉन यानी पैदल सबसे पीछे नहीं रहने चाहिए।”


चेस चैंपियनशिप से जुड़े दो लोगो हाल ही में जारी किए गए हैं। मॉस्को के शूका डिजाइंस से इन्हें तैयार कराया गया है। एक में कामसूत्र वाली आकृति को चेस खेलते दिखाया गया है। जबकि, दूसरे वाले में इस तरह कुछ हाथ में चेस बोर्ड लिए हैं। (फोटोः फेसबुक)

बता दें कि वर्ल्ड चेस चैंपियनशिप 2018 लंदन में 11 से 30 नवंबर के बीच होगी। वर्ल्ड चैंपियन मैग्सन कार्लसन से इसमें कैंडिडेट टूर्नामेंट के विजेता से आमना-सामना होगा। यह चेस गेम मार्च में जर्मनी में खेला जाएगा। कार्लसन पिछली बार चेस चैंपियनशिप के विजेता थे। न्यूयार्क में उन्होंने सर्जी कर्जाकिन को मात दी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *