emirat airlines stopped cricketer shikhar dhawan family at airport Pakistani journalist tells about the rule – दुबई में फंसी शिखर धवन की फैमिली तो पाकिस्‍तानी पत्रकार ने याद दिलाया नियम, क्रिकेटर ने यूं दिया जवाब

इंडियन क्रिकेट टीम के धाकड़ बल्लेबाज शिखर धवन की पत्नी आयशा और बच्चे इस वक्त के दुबई एयरपोर्ट पर फंसे हुए हैं। जरूरी दस्तावेज मौजूद नहीं होने के कारण अमीरात एयरलाइन्स ने शिखर धवन के परिवार को उनके साथ दक्षिण अफ्रीका नहीं जाने दिया। जहां एयरलाइन्स के इस कदम से धवन काफी नाराज हैं तो वहीं एक पाकिस्तानी पत्रकार ने इसका पक्ष लिया है। पाकिस्तान की स्पोर्ट्स एंकर जैनब अब्बास ने ट्वीट कर कहा कि चाइल्ड ट्रैफिकिंग की समस्या के कारण ऐसा किया गया। उन्होंने ट्वीट किया, ‘सोचिए, क्योंकि दक्षिण अफ्रीका में हो रही चाइल्ड ट्रैफिकिंग के कारण बर्थ सर्टिफिकेट बहुत जरूरी है। उन्हें सबूत चाहिए होता है कि आप बच्चों के पैरेंट्स हैं या नहीं। पासपोर्ट इस बात को साबित नहीं करता है। अजीब नियम है, लेकिन यही सच है।’ पत्रकार के इस ट्वीट पर शिखर धवन ने जवाब दिया कि वह इससे सहमत हैं लेकिन अमीरात एयरलाइन्स को बर्थ सर्टिफिकेट की अनिवार्यता के बारे में पहले खबर कर देनी थी।

संबंधित खबरें

उन्होंने कहा, ‘मैं इस बात से सहमत हूं, लेकिन फिर भी यह एयरलाइन्स की जिम्मेदारी थी कि इस तरह के नियम को पहले बता देना चाहिए था। इसके बारे में तभी खबर कर देनी चाहिए थी जब हम लोग मुंबई में थे। ऐसे में मेरा परिवार घर में ही रुककर दस्तावेज इकट्ठा कर लेता।’

बता दें कि शिखर धवन इस वक्त इंडियन क्रिकेट टीम के दक्षिण अफ्रीका दौरे के तहत कैपटाउन पहुंच चुके हैं, लेकिन उनकी बीवी आयशा और बच्चे इस वक्त दुबई एयरपोर्ट पर ही फंसे हुए हैं। धवन ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है और कहा है कि उनसे दुबई में उनके बच्चों का बर्थ सर्टिफिकेट मांगा गया, लेकिन उस वक्त उनके पास वह सारे दस्तावेज मौजूद नहीं थे इसलिए उन्हें अपने परिवार को दुबई में ही छोड़कर कैपटाउन आना पड़ गया। धवन ने अमीरात एयरलाइन्स के इस बर्ताव को अनप्रोफेशनल करार देते हुए ट्वीट किया, ‘अमीरात एयरलाइन्स का बर्ताव बेहद ही अनप्रोफेशनल रहा। मैं अपने परिवार के साथ दक्षिण अफ्रीका जा रहा था, लेकिन दुबई में मुझे बताया गया कि मेरी पत्नी और बच्चे दुबई से दक्षिण अफ्रीका के लिए उड़ान नहीं भर सकते। मुझसे एयरपोर्ट पर बच्चों का बर्थ सर्टिफिकेट और बाकी सारे दस्तावेज मांगे गए, जो कि उस वक्त मेरे पास नहीं थे।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *