hockey players in Imphal has no beds to sleep in imphal in Senior Men National Championship – जमीन पर गद्दा बिछाकर सोये नेशनल हॉकी टीम के खिलाड़ी, गंदे टॉयलेट में जाने को मजबूर

राष्ट्रीय हॉकी चैंपियनशिप (बी डिविजन) के लिए इंफाल पहुंची नेशनल हॉकी टीम को खराब व्यवस्था के कारण कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हॉकी प्लेयर्स के ठहरने के लिए उचित व्यवस्था नहीं की गई है, जिसकी वजह से सभी खिलाड़ी जमीन पर गद्दे बिछाकर सोने के लिए मजबूर हैं। इंडिया टुडे के मुताबिक खिलाड़ियों को पलंग भी मुहैया नहीं कराया गया है, इसलिए कड़ाके की ठंड में भी उन्हें जमीन पर सोना पड़ रहा है। इसके अलावा टॉयलेट भी गंदे हैं, उनमें से लगातार पानी रिस रहा है। खिलाड़ियों ने शिकायत की है कि मणिपुर स्टेट अथॉरिटी ने उन्हें बेसिक सुविधाएं भी नहीं दी हैं। उन्हें कंबल तक उपलब्ध नहीं कराया गया है।

हॉकी प्लेयर करियप्पा का कहना है कि यहां काफी ठंड है, जिससे निपटने के लिए खिलाड़ियों को कंबल की जरूरत है, पीने और नहाने के लिए गर्म पानी भी चाहिए। यह सारी सुविधाएं नहीं दी गई हैं, जिसके कारण खिलाड़ी बीमार हो रहे हैं। इसके अलावा खिलाड़ियों के खाने के लिए भी सही इंतजाम नहीं किए गए हैं। प्लेयर्स की शिकायत है कि उन्हें ठंडा खाना दिया जा रहा है।

संबंधित खबरें

हालांकि अधिकारियों का कहना है कि उनकी ओर से सभी इंतजाम किए गए हैं और जो भी सुविधाएं दी गई हैं वह अच्छी हैं। मणिपुर, स्पोर्ट्स डायरेक्टर प्रवीण सिंह का कहना है, ‘मणिपुर सरकार ने इस टूर्नामेंट के लिए सभी जरूरी इंतजाम किए हैं। जब खिलाड़ी यहां आए थे तब उन्होंने हॉस्टल में उपयोग में नहीं आने वाला इलाका देखा और सोचा कि यह उनके इस्तेमाल के लिए है। समस्या का समाधान उस वक्त हो गया जब उन्होंने अपने कमरे देखे। हमने खिलाड़ियों को हीटर, कंबल, कार्पेट, चादर जैसी सारी सुविधाएं दी हैं। सभी खिलाड़ी आराम से रह रहे हैं।’ वहीं खिलाड़ियों को हो रही समस्याओं को सुनने के बाद हॉकी इंडिया की सीईओ एलीना नॉर्मन जायजा लेने आईं। नॉर्मन ने कहा कि सुधार किया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘हमने जायजा ले लिया है और कुछ ऐसे इलाके हैं जहां सुधार की जरूरत है, जिसके लिए हमने आदेश दे दिए हैं। हम सुनिश्चित करते हैं कि जल्द सुधार कर दिए जाएंगे।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *