Ind vs SA 1st Test: केपटाउन में पसीने से भीग रही टीम इंडिया, पर दो मिनट से ज्यादा नहीं नहाने का फरमान – India vs South Africa 2018 1st Test, Ind vs SA Match: dry Cape Town team india told about two minutes in shower

मुश्किल विदेशी दौरे पर गई टीम इंडिया के खिलाड़ियों को मैच शुरू होने से पहले ही चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। दक्षिण अफ्रीका दौरे पर गए टीम इंडिया के खिलाड़ी जमकर पसीना बहा रहे हैं लेकिन नहाने के लिए उन्हें सिर्फ दो मिनट का वक्त दिया जा रहा है। दरअसल ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि केपटाउन सूखे से जूझ रहा है। इसी के चलते पानी बचाने के लिए केपटाउन में आधिकारिक तौर पर ऐसा करने को कहा जा रहा है। सिटी काउंसिल ने पानी की बचत के लिए एक व्यक्ति के लिए दिन में 87 लीटर पानी दिए जाने की अनुमति दी है। केपटाउन में पानी की समस्या इतनी ज्यादा है कि पानी का लेवल-6 पर पहुंच गया है। यह अपने आप में बड़ी चिंता की बात है।

स्थानीय निवासी निसियांगी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, ‘पानी की कमी के बीच केप टाउन में दो टीमों के बीच टेस्ट मैच का आयोजन किया गया है। जबकि आपको अन्य चीजों के मुकाबले में पानी की ज्यादा चिंता होनी चाहिए। हालांकि खेल के लिए ऐसा करना मुश्किल हैं।’ वहीं अन्य नागरिक सब्बीर हर्नेकर (42) ने इस मामले में अन्य लोगों को प्रेरित किया है। अपने परिवार के साथ केपटाउन पहुंचे हर्नेकर अपने साथ पानी की बोलतें और कैन लेकर आए हैं। एक अन्य दंपत्ति ने बताया कि यहां पानी की समस्या इतनी ज्यादा है कि उन्हें अन्य स्थान से पानी लाना पड़ता है।

संबंधित खबरें

रिपोर्ट की मानें तो केप टाउन में संबंधित अधिकारी की पानी की हर उस बूंद पर नजर होती है जो पीने लायक है। यहां बता दें कि लेवल-6 का मतलब है कि केप टाउन में पीने के पानी का इस्तेमाल पौधों को पानी देने, पूल और अन्य कामों में इस्तेमान नहीं किया जा सकता है। अगर कोई नागरिक इसका पालन नहीं करता तो उसे एक लीटर पानी के लिए करीब 51 हजार रुपए का जुर्माना देना होता है। हालांकि इस परेशानी में भी भारतीय खिलाड़ियों के लिए अच्छी खबर है। वो ये कि जमीन पर पानी की कमी की असर पिच पर नजर आएगा। पिच पर नमी कम रहेगी और ट्रैक सूखे रहेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *