Ind vs SA 1st Test: पहले टेस्ट से बाहर हुए डेल स्टेन, पूरी सीरीज से हो सकते हैं आउट – India vs South Africa 2018 1st Test, Ind vs SA Match: Dale Steyn ruled out of the Test series

जोहानिसबर्ग के न्यूलैंड्स में खेले जा रहे पहले टेस्ट में द.अफ्रीका के तेज गेंदबाज डेल स्टेन चोटिल हो गए हैं। अब वह इस मैच में नहीं खेलेंगे। यह भी कहा जा रहा है कि वह अगले 4-6 हफ्ते नहीं खेल पाएंगे। डेल स्टेन 13 महीनों के लंबे ब्रेक के बाद उन्होंने भारत के खिलाफ पहले टेस्ट में वापसी की थी, लेकिन दुर्भाग्यवश वह दोबारा चोटिल हो गए। डेल स्टेन ने भारत के खिलाफ मैच में 2 अहम विकेट चटकाए हैं। जब डेल स्टेन अपना 18वां ओवर डाल रहे थे, तब उनकी एडी में चोट लग गई। इसके बाद वह गेंदबाजी नहीं कर पाए। वेरनन फिलेंडर ने वह ओवर पूरा किया। चोटिल स्टेन को इसके बाद जांच के लिए अस्पताल ले जाया गया। गौरतलब है कि चोटों के कारण डेल स्टेन का करियर काफी प्रभावित हुआ है। दाएं कंधे में चोट के कारण वह कई मैचों से बाहर रहे हैं।

गौरतलब है कि दक्षिण अफ्रीका ने पहले टेस्ट मैच में भारत पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली है। दूसरे दिन शनिवार का खेल खत्म होने तक मेजबान टीम ने भारत पर 142 रनों की बढ़त ले ली है। दिन का खेल खत्म होने तक दक्षिण अफ्रीका ने अपनी दूसरी पारी में 20 ओवरों में दो विकेट के नुकसान पर 65 रन बना लिए हैं। स्टम्प्स तक हाशिम अमला चार और कागिसो रबादा दो रन बनाकर खेल रहे हैं। इससे पहले मेजबान टीम के गेंदबाजों ने अपने बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर भारतीय टीम के मजबूत बल्लेबाजी क्रम को 209 पर ही ढेर करते हुए अपनी टीम को 77 रनों की बढ़त दिला दी थी। अपनी दूसरी पारी खेलने उतरी दक्षिण अफ्रीका को एडिन मार्कराम (34) और डीन एल्गर (25) ने सधी हुई शुरुआत दी और पहले विकेट के लिए 52 रन जोड़े। इस जोड़ी को हार्दिक पांड्या ने मार्कराम को आउट कर तोड़ा। वहीं पांड्या ने ही 59 के कुल स्कोर पर एल्गर को विकेट के पीछे रिद्धिमान साहा के हाथों कैच कराया।

भारत के लिए दिन के हीरो हरफनमौला खिलाड़ी पांड्या रहे। दूसरे दिन अफ्रीका के दो विकेट चटकाने से पहले उन्होंने अपनी टीम की पहला पारी में सबसे ज्यादा 93 रन बनाए। उन्होंने संकट के समय में 95 गेंदों में 14 चौके और एक छक्के की मदद से आतिशी पारी खेलते हुए अपनी टीम को गर्द में जाने से बचाया। पांड्या ने आठवें विकेट के लिए भुवनेश्वर कुमार (25) के साथ 99 रनों की साझेदारी की। यह साझेदारी ऐसे समय आई जब भारत ने अपने सात विकेट महज 92 रनों पर ही खो दिए थे। मोर्ने मोर्केल ने भुवनेश्वर को आउट कर इस साझेदारी को तीसरे सत्र में तोड़ा। भुवनेश्वर 191 के कुल स्कोर पर आउट हुए। उनके बाद पांड्या भी ज्यादा देर टिक नहीं सके और कागिसो राबादा ने विकेट के पीछे क्विंटन डी कॉक के हाथों उन्हें कैच कराते हुए शतक पूरा करने से रोक दिया।

जसप्रीत बुमराह (2) को आउट कर राबादा ने भारतीय पारी का अंत किया। मोहम्मद शमी चार रनों पर नाबाद लौटे। इससे पहले, अपने पहले दिन के स्कोर 28 रनों पर तीन विकेट खोकर बैकफुट पर पहुंच चुकी भारतीय टीम को रोहित और चेतेश्वर पुजारा (26) से ही उम्मीदें थीं। इस जोड़ी ने शुरुआत तो अच्छी की, लेकिन रोहित बीच में ही पुजारा का साथ छोड़ गए। वह रबादा की गेंद पर पगबाधा करार दे दिए गए। फिर पुजारा और रविचंद्रन अश्विन ने पहले सत्र में कोई और झटका नहीं लगने दिया।

दूसरे सत्र में हालांकि भारत ने तीन और विकेट खो दिए जिसमें सबसे अहम विकेट पुजारा का था। पुजारा को 76 के कुल स्कोर पर वार्नोन फिलेंडर ने कप्तान फाफ डु प्लेसिस के हाथों कैच कराया। पांच रन बाद फिलेंडर ने अश्विन (12) को पवेलियन भेज दिया। 92 के कुल स्कोर पर रिद्धिमान साहा बिना खाता खोले डेल स्टेन का शिकार हो गए। यहां पांड्या ने कदम रखा और हालात के विपरीत आतिशी अंदाज में बल्लेबाजी की। पारी को संभालने में भुवनेश्वर ने पांड्या का बखूबी साथ दिया और सूझबूझ भरी पारी खेली। दोनों खिलाड़ी दूसरे सत्र में नाबाद लौटे थे।

तीसरे सत्र में हालांकि अफ्रीकी गेंदबाजों ने इन दोनों के साथ भारत के बाकी के विकेट लेकर उसे जल्दी पवेलियन भेज दिया। मैच के पहले दिन (शुक्रवार) को भारतीय गेंदबाजों ने दक्षिण अफ्रीका को 286 रनों पर सीमित कर दिया था। उसके लिए अब्राहम डिविलियर्स 65 और फाफ डु प्लेसिस 62 रन बनाए। भारत के लिए भुवनेश्वर ने चार विकेट लिए। अश्विन ने दो विकेट चटकाए। मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह और पांड्या को एक-एक विकेट मिला।

देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *