IND vs SL: Virat Kohli scores Most runs by an Indian captain in a Test match – IND vs SL: किसी टेस्‍ट मैच में सबसे ज्‍यादा रन बनाने वाले भारतीय कप्‍तान बने विराट कोहली

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्‍तान विराट कोहली हर फॉर्मेट में नए रिकॉर्ड बनाते जा रहे हैं। दिल्‍ली के फिरोज शाह कोटला स्‍टेडियम में श्रीलंका के खिलाफ तीसरे टेस्‍ट मैच में कोहली ने कई कीर्तिमान बनाए। पहली पारी में कोहली ने 243 रनों की पारी खेली जबकि दूसरी पारी में वह 50 रन बनाकर आउट हो गए। सीरीज के तीन टेस्‍ट मैचों की 5 पारियों में कोहली ने 152.50 के औसत से 610 रन बना लिए हैं। यह तीन मैचों की टेस्‍ट सीरीज में किसी भारतीय का सबसे अधिक स्‍कोर है। वहीं पूरी दुनिया में तीन मैचों की सीरीज में यह चौथा सबसे अच्‍छा प्रदर्शन है। इंग्‍लैंड के ग्राहम गूच के नाम पर 1990 में तीन मैचों की टेस्‍ट सीरीज में सबसे ज्‍यादा 752 रन बनाने का विश्‍व रिकॉर्ड है। इसके अलावा, कोहली ने एक टेस्‍ट में किसी भारतीय कप्‍तान के सर्वाधिक स्‍कोर का रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिया। दिल्‍ली टेस्‍ट में उन्‍होंने 293 रन बनाए जो कि 1978 में सुनील गावस्‍कार द्वारा वेस्‍टइंडीज के खिलाफ कोलकाता में बनाए गए 289 से ज्‍यादा है।

इस सीरीज में कोहली ने 82.21 के स्ट्राइक रेट से 57 चौके और चार छक्के लगाए। इससे पहले कोहली ने बीते साल इंग्लैंड के साथ हुए पांच मैचों की सीरीज की आठ पारियों में दो बार नाबाद रहते हुए 655 रन बटोरे। इस सीरीज में उनका सर्वोच्च योग 235 रहा। कोहली ने 60.87 के स्ट्राइक रेट से कुल 72 चौके और एक छक्का लगाया। इस सीरीज में कोहली के बल्ले से दो शतक और दो अर्धशतक निकले।

कोहली ने राजकोट में खेले गए पहले टेस्ट में 40 और नाबाद 49 रन बनाए। इसके बाद विशाखापट्टनम में उनके बल्ले से 167 और 81 रनों की पारियां निकलीं। मोहाली में कोहली ने 62 और नाबाद 6 रन बना बनाए। मुम्बई में कोहली ने 235 रनों की पारी खेली और फिर चेन्नई में 15 रनों की पारी खेली। कोहली ने पहली बार किसी सीरीज में 600 से अधिक रनों का आंकड़ा साल 2014 में छुआ था। आस्ट्रेलिया के साथ आस्ट्रेलिया में हुई चार मैचों की सीरीज में कोहली ने आठ पारियों में 86.50 के औसत से कुल 692 रन बटोरे थे। इस सीरीज में कोहली ने चार शतक और एक अर्धशतक लगाए थे।

इस सीरीज में कोहली ने 77 चौके और एक छक्का लगाया। कोहली ने एडिलेड टेस्ट की दोनों पारियों में शतक लगाया था। उनके बल्ले से 115 और 114 रन निकले थे। इसके बाद हालांकि, वह ब्रिस्बेन टेस्ट में नाकाम रहे। इस टेस्ट में वह 19 और 1 रन ही बना सके थे।

कोहली ने इस नाकामी की भरपाई मेलबर्न टेस्ट में की और 169 तथा 54 रनों की पारी खेली। इस टेस्ट में ही उन्होंने सीरीज की अपनी सबसे बड़ी पारी खेली। कोहली के बल्ले ने सिडनी टेस्ट में रन उगले। पहली पारी में वह 147 रन बनाने में सफल रहे और फिर दूसरी पारी में 46 रनों की अच्छी पारी खेली।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *