India Cricket Team played first 100 Test matches win only ten- पहले सौ टेस्‍ट मैचों में केवल 10 जीत सका था भारत, बांग्‍लादेश से भी बदतर थी परफॉर्मेंस

भारतीय टेस्ट टीम के खिलाड़ियों का मौजूदा फॉर्म कमाल का है। भारत को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ आज से टेस्ट सीरीज का पहला मैच न्यूलैंड्स में खेलना है। इस दौरे पर भारतीय कप्तान विराट कोहली से फैंस को काफी उम्मीदें हैं। बल्लेबाजी में भारत का दारोमदार चेतेश्वर पुजारा और विराट कोहली के ऊपर सबसे ज्यादा होगा। इन दोनों ने 2017 में काफी रन बनाए हैं। भारतीय टीम आज तक दक्षिण अफ्रीका को उसी के घर में सीरीज हराने में असफल रही है। लेकिन विराट कोहली की टीम के मौजूदा फॉर्म को देखते हुए, इस बार सीरीज जीतने के कयास लगाए जा रहे हैं। भारत ने साल 1932 से लेकर 1967 के बीच 100 टेस्ट मैच खेले थे और ज्यादातर मैचों में उसे हार का सामना ही करना पड़ा था। लगभग 35 साल टेस्ट क्रिकेट खेलने के बाद भी भारत केवल 10 मैच जीतने में कामयाब रही थी। जबकि 40 मैचों में उसे हार का सामना करना पड़ा था। वहीं 50 मैच ड्रॉ रहे थे। टेस्ट क्रिकेट में पहला मैच जीतने के लिए भारत को 19 साल लग गए थे।

संबंधित खबरें

1967 TEST ऑस्ट्रेलिया टूर पर भारतीय टीम (फोटो सोर्स- क्रिकइंफो)

भारतीय क्रिकेट टीम की हालत उस दौरान ठीक वैसी ही थी जैसी कि आज बांग्लादेश टेस्ट क्रिकेट की है। साल 2000 से अब तक खेले गए मुकाबलों में बांग्लादेश ने 104 टेस्ट मैच खेले हैं। जिनमें उन्हें महज 10 मैचों में जीत मिली है। साल 1967 से लेकर 1991 तक भारतीय टीम की जीत की प्रतिशत में पहले के मुकाबले डबल बढ़ोत्तरी हुई। भारत ने इस दौरान 174 मैच खेले। जिसमें उसे 34 बार जीत मिली। इसके बाद साल 1992 से लेकर 2017 तक भारत की जीत प्रतिशत और बेहतर होती चली गई।

भारत ने इन 25 सालों के दौरान खेले गए 248 टेस्ट मैचों में 99 में जीत हासिल की। इस समय भारत की जीत 39.9 प्रतिश्त रहा। जो दूसरों टीमों के मुकाबले काफी अच्छा है। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने अपनी कप्तानी में भारतीय टेस्ट टीम को एक नई पहचान दिलाने का काम किया। सौरव गांगुली ने अपनी कप्तानी में विदेशी दौरो पर भी जीत हासिल की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *