India vs Sri Lanka, 3rd Test: Sri Lanka coach Nick Pothas claims players were vomiting in the dressing room – IND vs SL: ड्रेसिंग रूम में उल्‍टी कर रहे थे श्रीलंकाई खिलाड़ी, खतरनाक था ऑक्‍सीजन लेवल

भारत के खिलाफ तीसरे और अंतिम क्रिकेट टेस्ट के दूसरे दिन यहां प्रदूषण के बढते स्तर पर चिंता जाहिर करते हुए श्रीलंका के कोच निक पोथास ने कहा कि उन्हें और उनके खिलाड़ियों ने इससे पहले कभी इस तरह की स्थिति का सामना नहीं किया और उनके कुछ खिलाड़ियों को काफी परेशानी का सामना करना पडा। पोथास ने दूसरे दिन का खेल समाप्त होने के बाद संवाददातों से कहा, ”यह किसी से छिपा नहीं है कि दिल्ली में प्रदूषण का स्तर काफी अधिक है और एक समय यह काफी बढ़ गया था। हमारा एक खिलाड़ी मैदान से उलटी करते हुए बाहर आया। ड्रेसिंग रूम में ऑक्सीजन का स्तर कम हो गया था।” उन्होंने कहा, ”खिलाड़ियों के लिए इस तरह परेशानी में खेलना सामान्य नहीं है। हमारे लिए यह बिलकुल नयी चीज थी। सभी मैच अधिकारी, रैफरी स्थिति से काफी अच्छी तरह निपटे। जब आपको ऐसी स्थिति का सामना करना पड़ता है जो सभी के लिए नयी हो तो फैसला करना आसान नहीं होगा। यह मेरा काम है कि हमारे खिलाड़ी सुरक्षित रहें और हमने ऐसा ही करने का प्रयास किया।”

बार-बार खेल रूकने पर उन्होंने कहा, ”हमें पहली बार इस तरह की स्थिति का सामना करना पड़ा है। हम कभी खेल रोकना नहीं चाहते थे। हम तो सिर्फ खिलाड़ियों की सुरक्षा को लेकर स्पष्टता चाहते थे। तेज गेंदबाजों को काफी परेशानी हो रही थी और जब यह लगा कि खिलाड़ियों के लिए स्थिति सुरक्षित नहीं है तो चर्चा (अंपायरों के साथ) शुरू हुई। खिलाड़ियों की सुरक्षा हमारे लिए सर्वोच्च है।” पोथास ने बताया कि तेज गेंदबाजों सुरंगा लकमल और लाहिरू गमागे को इस स्थिति के कारण काफी परेशानी हो रही थी।

कोच ने कहा, “तेज गेंदबाजों सुरंगा लकमल और लाहिरू गमागे को काफी परेशानी हो रही थी। मैच रैफरी (डेविड बून) और डॉक्टर हमारे ड्रेसिंग रूम में थे। दोनों खिलाड़ी उलटी कर रहे थे। धनंजय डिसिल्वा भी उलटी कर रहा था। इस मुश्किल स्थिति थी।” पोथास से जब यह पूछा गया कि जब वह मैदान पर गए तो उनकी कप्तान दिनेश चांदीमल से क्या बात हुई। उन्होंने कहा, ”कप्तान मुझसे बात करना चाहता था क्योंकि एक समय मैदान पर हमारे सिर्फ 10 खिलाडी थे। मैंने चांदीमल से बात की। अंपायरों की स्थिति भी काफी जटिल थी। दुर्भाग्य की बात है कि प्रदूषण को लेकर कोई नियम नहीं है।”

प्रदूषण के बीच एंजेलो मैथ्यूज फार्म में वापसी करते हुए नाबाद 57 रन बनाकर क्रीज पर डटे हुए हैं और कोच से जब यह पूछा गया कि क्या गेंदबाजी की तुलना में बल्लेबाजी करना आसान था तो उन्होंने कहा, ”एंजेलो ने शानदार बल्लेबाजी की। मुझे नहीं पता कि बल्लेबाजी करना आसान था या नहीं। लेकिन जब आपकी आधी टीम परेशान हो तो काफी मुश्किल हो जाती है। कल क्या स्थिति रहती है इसे लेकर फैसला मैच अधिकारियों को करना है।”

सदीरा समरविक्रम के चोटिल होने के कारण दिलरूवान परेरा को पारी की शुरूआत करनी पड़ी और उन्होंने 42 रन बनाए लेकिन अच्छी शुरूआत को बडी पारी में बदलने में नाकाम रहे जिस पर पोथास ने कहा, ”परेरा ने हमेशा बल्ले से योगदान दिया है। उसे श्रेय जाता है कि उसने जिम्मेदारी उठायी।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *