Indian cricket team and management said compulsory to cricketer part yo-yo test before selection- रैना समेत कई क्रिकेटरों की डुबा चुका है लुटिया, जानें आखिर क्या बला है YO-YO टेस्ट?

भारतीय क्रिकेट टीम इस समय श्रीलंका के साथ टेस्ट सीरीज खेल रही है। सीरीज का आखिरी टेस्ट दिल्ली में 2 दिसंबर (शनिवार) से खेला जाएगा। वहीं सोमवार को अंतिम टेस्ट और वनडे सीरीज के भारतीय टीम का ऐलान हुआ है। कुछ लोगों के जहन में एक बात अक्सर आती होगी कि आखिर भारतीय टीम में सुरेश रैना और युवराज सिंह जैसे खिलाड़ी वापसी क्यों नहीं कर पा रहे हैं। घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद भी कई खिलाड़ी टीम में वापसी नहीं कर पाते हैं। इसकी एक बड़ी वजह ‘यो-यो टेस्ट’ भी है। अब आप सोच रहेंगे भला ये ‘यो-यो टेस्ट’ क्या है। दरअसल, टीम में खिलाड़ियों के सेलेक्शन से कुछ दिन पहले यह टेस्ट कराया जाता है। यो-यो टेस्ट ‘बीप’ टेस्ट का एडवांस वर्जन है। 20-20 मीटर की दूरी पर दो लाइनें बनाकर कोन रख दिए जाते हैं। जहां खिलाड़ियों को एक कोन से दूसरे कोन तक दौड़ना होता है। जो खिलाड़ी वक्त रहते वहां तक पहुंच जाता है वह पास हो जाता है।

अगर वह ऐसा करने में नाकाम होता है तो उसे फेल माना जाता है। टीम में सेलेक्ट होने के लिए इस टेस्ट को पास करना बेहद जरूरी हो गया है। भारतीय क्रिकेट टीम में वापसी की राह देख रहे बल्लेबाज सुरेश रैना इस टेस्ट से इस कदर परेशान हो चुके हैं कि वह ‘यो-यो’ टेस्ट को लेकर बात नहीं करना चाहते हैं। रैना के अलावा युवराज सिंह, आर.अश्विन, केएल राहुल और मनी। पांडे जैसे खिलाड़ी इस टेस्ट में फेल हो चुके हैं।

हाल में हुए यो-यो टेस्ट में युवराज सिंह के हाथ एक बार फिर निराशा हाथ लगी और वह इस टेस्ट में फेल हो गए। किसी भी खेल में अब फिटनेस का मुद्दा अहम होता जा रहा है। क्रिकेट की बात करें तो बल्लेबाज़ी, गेंदबाज़ी और फील्डिंग तीनों में फिटनेस काफी जरूरी मानी जाती है। आज का क्रिकेट पहले खेले जाने वाले क्रिकेट से काफी बदल चुका है। ऐसे में खिलाड़ियों के पास खुद को फिट रखने की चुनौती हर समय रहती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *