Mahendra Singh Dhoni invaluable partnerships with Kuldeep Yadav Jasprit Bumrah and Yuzvendra Chahal Against Sri Lanka- रिकॉर्ड: जब-जब मुसीबत में फंसी टीम इंडिया, बचाने आए महेंद्र सिंह धोनी

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने धर्मशाला में 65 रनों की शानदार पारी खेली। धोनी की पारी की बदौलत ही भारतीय टीम 112 के स्कोर तक पहुंच पाई। धोनी ने भारत को अपने वनडे इतिहास के न्यूनतम स्कोर से बचा लिया। लेकिन ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब धोनी भारतीय टीम के लिए संकटमोचक बनकर ऊभरे हों। इससे पहले भी कई बार धोनी ने भारतीय टीम को विपरीत परिस्थितियों से निकालने का काम किया है। आपको जानकर हैरानी होगी धोनी ने इस तरह के करीब सात पारियों में 85.67 की शानदार औसत के साथ 514 रन बनाए हैं। जिसमें उन्होंने 2 शतक और 3 अर्धशतक भी जड़ा है। 2009 में वेस्टइंडीज के खिलाफ किंग्सटन में खेले गए मैच में भी भारतीय टीम 7 रन पर ही अपने तीन विकेट गवां दिए थे। जिसके बाद धोनी ने आकर 95 रनों की दमदार पारी खेलकर टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।

dhoni and yadav कुलदीप यादव और महेंद्र सिंह धोनी (फोटो सोर्स- पीटीआई)

इसके अलावा इंग्लैंड के खिलाफ ओवल में भी भारतीय टीम ने 25 रनों पर ही अपने चार विकेट खो दिए थे। जिसके बाद धोनी ने 69 रनों की पारी खेलकर टीम को मुसीबत से निकाला था। वहीं 2005 में पाकिस्तान के खिलाफ चेन्नई में खेले गए एक मैच में भारतीय टीम ने 29 रनों पर ही अपने पांच विकेट गवां दिया था। जिसके बाद धोनी ने आकर ना सिर्फ टीम को संभाला बल्कि आखिरी तक 113 रनों पर नाबाद भी रहे।

इसी साल कटक में जब भारतीय टीम इंग्लैंड के खिलाफ 25 रन पर ही 3 विकेट खो दिए तो धोनी ने आकर 134 रनों की दमदार पारी खेली। वहीं अगर आज की बात की जाए तो जब धोनी बल्लेबाजी करने आए थे तो भारतीय टीम महज 16 रन पर ही अपने चार विकेट गवां दिए थे। इसके बाद धोनी ने अपनी 65 रनों की बदौलत टीम को 112 के स्कोर तक पहुंचाया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *