5 Important Personal Finance Lessons To Teach Your Kids: know here in hindi how to apply – इन पांच तरीकों से अपने बच्चों को सिखाएं पैसे बचाना और मैनेज करना

आदिल शेट्टी

पर्सनल फाइनेंस और मनी मैनेजमेंट एक दिन में नहीं सिखाया जा सकता है। इसकी शुरुआत बचपन से ही कर देनी चाहिए। आप पैसे के महत्व को समझने में अपने बच्चे की मदद कर सकते हैं, और समय के साथ उन्हें बता सकते हैं कि इसे कैसे मैनेज करना चाहिए। इससे उनमें पैसों के लेनदेन के बारे में आत्मविश्वास पैदा होगा और वे उन गलतियों को दोहराने से भी बच जाएंगे जो उनके बड़े कर चुके हैं।

बच्चों को छोटे-छोटे आर्थिक फैसले लेने दें
आप ये उम्मीद नहीं कर सकते हैं कि आपके बच्चे अपने दम पर बड़े आर्थिक फैसले ले सकते हैं, जब तक कि वे अपने लिए छोटे-छोटे आर्थिक फैसले लेने में कामयाब नहीं हो जाते। उदाहरण के लिए, जब आप शॉपिंग के लिए जाते हैं तो उन्हें यह चुनने और फैसला करने की आजादी दें कि उन्हें क्या खरीदना चाहिए और क्यों। यदि वे निश्चित सीमा के भीतर शॉपिंग करने में कामयाब हो जाते हैं तो आप उनकी तारीफ करें। इससे उन्हें जरूरत से ज्यादा खर्च करने के बजाय पैसे की कीमत को समझते हुए शॉपिंग करने पर ध्यान देने में मदद मिलेगी। बच्चा जैसे-जैसे बड़ा होता जाए, उसे संभावित आर्थिक फैसले लेने में शामिल करने की कोशिश करें। इससे वे आर्थिक दृष्टि से जिम्मेदार और कॉन्फिडेंट बनेंगे।

संबंधित खबरें

बैंकिंग से जुड़ी बुनियादी बातों के बारे में बताएं
बैंकिंग, बच्चों को पर्सनल फाइनैंस से जोड़ने का पहला चरण हो सकता है। अधिकांश बैंक, बच्चों के लिए सेविंग अकाउंट की सुविधा दे रहे हैं। बैंक से जुड़कर, बच्चे अपने बैंक अकाउंट में पैसे रखना, एक डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करना और अन्य बैंक संबंधी सुविधाओं का इस्तेमाल करना सीख जाएंगे।

बच्चे के लिए पॉकेट मनी निर्धारित करें
आपको अपने बच्चे के लिए एक मासिक भत्ता निर्धारित करना चाहिए और उनके द्वारा पैसे खर्च करने के तरीके पर नजर रखनी चाहिए। यदि वे समझदारी के साथ उस पैसे का इस्तेमाल करते हैं तो उन्हें कुछ गिफ्ट देकर या थोड़े और पैसे देकर उनकी हौसला अफजाई करने में संकोच न करें। मासिक भत्ते के माध्यम से बच्चे को ज्यादा जिम्मेदारी के साथ बड़े होने में मदद मिलती है। इस तरह उनके मन में जवाबदेही की भावना भी पैदा होती है।

बचत और निवेश करने का महत्व बताएं
जब बच्चे एक खिलौना या एक किताब या कोई दूसरी चीज खरीदने के लिए पैसे मांगते हैं तो उन्हें अपनी पॉकेट मनी से पैसे बचाकर खरीदने के लिए कहना ज्यादा बेहतर होगा। इससे उन्हें पैसे बचाने का महत्व समझने में मदद मिलेगी। इसी तरह उन्हें निवेश करना सिखाएं और उन्हें यह भी बताएं कि इससे आगे चलकर पैसे बचाने में कैसे मदद मिल सकती है। आप एक रेकरिंग डिपोजिट अकाउंट खोलने में उनकी मदद कर सकते हैं। उनके पैसे को बढ़ते हुए देखने की खुशी के भागीदार बन सकते हैं।

उन्हें खर्च और कर्ज के बारे में बताएं
एक सही खर्च, पैसे बचाने जितना ही महत्वपूर्ण होता है। अपने बच्चे को सिखाएं कि पैसे को सही तरह से कैसे खर्च करना चाहिए। बच्चों को अपने खर्च पर नजर रखने और फिजूलखर्च में कटौती करने का तरीका मालूम होना चाहिए। तरह-तरह के खर्च के लिए एक टारगेट सेट करने और बहुत पहले से ही एक बजट बनाकर चलने में बच्चे की मदद करें। इससे उन्हें कर्ज से जुड़ी बातों के साथ-साथ उसे संभालने का तरीका भी मालूम हो जाएगा। अनावश्यक कर्ज आपकी व्यक्तिगत आर्थिक स्थिति पर बहुत ज्यादा प्रभाव डाल सकता है, इसलिए आपको अपने बच्चे को यह जरूर सिखाना चाहिए कि कब और कैसे पैसे जमा करने चाहिए। कर्ज से कैसे बचना चाहिए। बच्चों को समय पर कर्ज चुकाने का तरीका भी सिखाना चाहिए।

बच्चों को पैसे से जुड़े सबक सिखाना जरूरी होने के बावजूद, उन पर जरूरत से ज्यादा दबाव नहीं डालना चाहिए और इसे एक दिलचस्प सबक बनाने की कोशिश भी नहीं करनी चाहिए। सही संतुलन बनाए रखें। पैसे से जुड़े सबक सिखाते समय, उन्हें परिवार, रिश्ते और इंसानियत का महत्व भी जरूर बताएं।
लेखक बैंक बाजार डॉट कॉम के सीईओ हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *