EPFO May Lower Interest Rate For Second Time In Two Years, Say labour ministry official – नौकरी करने वालों को झटका दे सकती है मोदी सरकार, EPFO कर रही ब्याज दर घटाने की तैयारी

रिटायरमेंट फंड बॉडी ईपीएफओ पीएफ पर मिलने वाली ब्याज दरों में कमी कर सकती है। लेबर मिनिस्ट्री के अधिकारी ने कहा है कि पीएफ पर 8.56 फीसदी की दर से ब्याज मिलता है। साल 2016-17 में इसके 4.5 करोड़ मेंबर हैं। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) की इस आधार पर ब्याज दर में कटौती करने की संभावना है कि वह सीधे विनिमय व्यापार निधि (ईटीएफ) यूनिट्स को भविष्य निधि खातों में जमा कर रही है। सीनियर अधिकारी ने कहा कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन 2017-18 के लिए भविष्य निधि जमा राशियों पर ब्याज दर में कटौती कर सकता है, क्योंकि ईटीएफ निवेश को सीधे ग्राहकों के खाते में जमा करने की योजना है। हालांकि, अधिकारी ने कहा कि ईपीएफओ अभी भी चालू वित्त वर्ष के लिए इनकम प्रॉजेक्शन का काम कर रहा है, जो कि इस वित्त वर्ष के लिए उपभोक्ता खातों में ब्याज दर को जमा करने का आधार बन जाएगा।

इससे पहले गुरुवार को ईपीएफओ ने मूल्यांकन और इक्विटी निवेश के लेखांकन के लिए पॉलिसी को मंजूरी दी थी। इसे आईआईएम बेंगलुरु की सलाह के बाद तैयार किया गया था। पॉलिसी इस वित्तीय वर्ष के अंत तक ग्राहकों के भविष्य निधि खाते में ईटीएफ इकाइयों को क्रेडिट करने में सक्षम हो जाएगी। इस प्रकार हर खाता धारक अपना पीएफ बैलेंस को कैश बैलेंस और ईटीएफ यूनिट्स की तरह देख पाएगा।

ईटीएफ पर मिलने वाले फायदे को सब्सक्राइबर खाते में जमा किया जाएगा लेकिन सदस्यों को निकासी के समय इन इक्विटी लिंक्ड इनवेस्टमेंट पर पूरी रकम का एहसास हो पाएगा। ग्राहकों के पास अपने खातों से एडवांस लेते समय ईटीएफ यूनिटों को खत्म करने या कैश निकालने का विकल्प होगा। वित्त मंत्रालय, श्रम मंत्रालय पर दवाब बना रहा है कि वह अपने ईपीएफ की दर को अपनी छोटी सेविंग स्कीम जैसे पीपीएफ की तरह करे। पिछले साल दिसंबर में ईपीएफ की ब्याज दर को साल 2016-17 के लिए 8.65 फीसदी कर दिया था, यह साल 2015-16 में 8.8 फीसदी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *