GDP Growth Rate 2017 India Live Updates: India GDP Growth Rate Likely to Improve today in Q2, Read Latest Updates here – GDP Growth Rate: अर्थव्‍यवस्‍था पर कैसा होगा जीएसटी का असर? आज आएंगे दूसरी तिमाही के आंकड़े

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (CSO) की ओर से दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) की विकास दर के आंकड़े गुरुवार (30 नवंबर) की शाम को जारी किए जाएंगे। इन आंकड़ों से यह स्‍पष्‍ट होगा कि वस्‍तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लागू होने का भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था पर कैसा असर पड़ा है। सीएसओ गुरुवार शाम 5.30 बजे सकल घरेलू उत्‍पाद (जीडीपी) के आंकड़े जारी करेगा। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के दौरान विनिर्माण क्षेत्र में मंदी के कारण जीडीपी की दर गिरकर 5.7 फीसदी पर आ गई थी, जो नरेंद्र मोदी सरकार के अंतर्गत जीडीपी की सबसे कम वृद्धि दर है। इससे पहले साल 2014 में जनवरी-मार्च के दौरान यह गिरकर 4.6 फीसदी पर आ गई थी।

यहां पढ़ें GDP Growth Rate 2017 India Live Updates:

– फिक्की ने अर्थशास्त्रियों के सहयोग से तैयार किए गए अपने आर्थिक सर्वेक्षण के हवाले से कहा, “जीएसटी से संबंधित अनुपालन भार को कम करने तथा कार्यान्वयन को आसान बनाने के लिए सरकार द्वारा उठाए कदमों, बैंकों के पुनर्पूजीकरण की योजना और अवसंरचना क्षेत्र पर जोर को सर्वेक्षण में शामिल भागीदारों द्वारा स्वीकार किया गया है, जो सरकार द्वारा विकास को रोकने वाले प्रमुख मुद्दों को हल करने के संकल्प को दिखाता है।”

बड़ी खबरें

– फिक्की ने कहा, “आर्थिक सर्वेक्षण में कहा गया है कि उच्च ब्याज दरों की भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा निश्चित रूप से समीक्षा की जानी चाहिए, क्योंकि यह विकास दर और रुपये के मूल्य को प्रभावित कर रही है।” उन्होंने अनुमान लगाया कि चालू वित्त वर्ष में बजटीय वित्तीय घाटा थोड़ा बढ़कर 3.3 फीसदी के आसपास रहेगा। सरकार ने इसे 3.2 फीसदी पर रखने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

– सर्वेक्षण में बताया गया कि चालू वित्त वर्ष में थोक मुद्रास्फीति 2.8 फीसदी के आसपास रहने की संभावना है और उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) या खुदरा महंगाई थोड़ा बढ़कर 3.4 फीसदी के आसपास होने की संभावना है। फिक्की के मुताबिक, देश में महंगाई बढ़ने का मुख्य कारण आपूर्ति में कमी है। कुछ अर्थशास्त्रियों ने कहा कि आरबीआई द्वारा महंगाई को काबू में रखने का जो लक्ष्य निर्धारित किया गया है, वह सही दृष्टिकोण नहीं हो सकता है।

– दूसरी तिमाही के आधिकारिक आंकड़े जारी होने से पहले, उद्योग मंडल फिक्की ने सोमवार को कहा कि जुलाई-सितंबर तिमाही में जीडीपी की वृद्धि दर सुधार के साथ 6.2 फीसदी पर रहेगी और आगे चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के दौरान इसमें और सुधार होगा और यह 6.7 फीसदी पर रहेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *