अमेरिका ने मदद रोकी तो पाकिस्तान ने की बड़ी कार्रवाई, हाफिज सईद को फंड देने पर होगी दस साल की सजा – Those funding terrorist Hafiz Saeed Azhar outfits face 10 years jail fine

पाकिस्तान ने मुंबई आतंकी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद और अन्य आतंकी संगठनों को आर्थिक रूप से कमजोर करने के लिए बड़ी कार्रवाई की है। खबर के अनुसार हाफिज सईद की चैरिटी और अन्य प्रतिबंधित संगठनों को फंड मुहैया कराने वालों को दस साल की सजा होगी और भारी जुर्माना भी लगाया जाएगा। यह चेतावनी उर्दू में देशभर में विज्ञापन के तहत दी गई है। यह विज्ञापन देश के सभी प्रमुख स्थानीय अखबारों में छपे हैं। विज्ञापन में सईद के जमात-उद-दावा, फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन और मसूद अजहर के जैश-ए-मोहम्मद सहित 72 संगठनों के नाम बताए गए हैं। माना जा रहा है कि पाकिस्तान ने यह कार्रवाई अमेरिका के भारी दबाव के बाद की है।

अमेरिका ने आतंकवादी समूहों पर कार्रवाई करने में विफल रहने को लेकर पाकिस्तान को दी जाने वाले दो अरब डॉलर की सुरक्षा सहायता बंद कर दी है। ट्रंप नीत सरकार कहना है कि पाकिस्तान सरकार आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करने में नाकाम साबित हुई है। अमेरिका ने पाकिस्तान को सख्त चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर पाकिस्तान तालिबान तथा हक्कानी नेटवर्क के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई और उनके पनाहगाहों का खात्मा नहीं करता तो वह उससे निपटने के लिए ‘‘सभी विकल्प’’ खुले रख रहा है।

बड़ी खबरें

ट्रंप प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने संवाददाताओं से कहा, ‘पाकिस्तान से निपटने और उसे तालिबान तथा हक्कानी नेटवर्क पर कार्रवाई के लिए राजी करने के वास्ते सुरक्षा सहायता रोकने के अलावा अमेरिका कई विकल्पों पर विचार कर रहा है।’ अधिकारी ने बताया, ‘निश्चित तौर पर इस खतरे से निपटने के लिए किसी को भी अमेरिका के संकल्प पर संदेह नहीं करना चाहिए और मैं कहूंगा कि सभी विकल्प खुले हैं।’ कुछ नीति निर्माताओं ने व्हाइट हाउस से पाकिस्तान का गैर नाटो सहयोगी का दर्जा हटाने और उस पर अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और संयुक्त राष्ट्र जैसे बहुपक्षीय संस्थानों के जरिए दबाव बनाने के लिए कहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *