आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान पर उंगली उठाने की अमेरिकी नीति का विरोध करता हूं: चीन – China Came into Deffence of Pakistan, Says it Oppose the US Policy of Terrorism

चीन ने सोमवार को कहा कि अमेरिका द्वारा पाकिस्तान पर उंगली उठाए जाने और उसे आतंकवाद के साथ जोड़ने का वह विरोध करता है। साथ ही बीजिंग ने इसपर जोर दिया कि आतंकवादी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई की जिम्मेदारी किसी देश विशेष पर नहीं डाली जा सकती है। पाकिस्तान में मौजूद आतंकवादियों के सुरक्षित पनाहगाहों को खत्म करने को लेकर इस्लामाबाद पर बढ़ते अमेरिकी दबाव के बीच चीन ने उक्त बात कहते हुए अपने मित्र का समर्थन किया है।
तालिबान और हक्कानी नेटवर्क जैसे आतंकवादी समूहों के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई करने में असफल रहने को लेकर अमेरिका ने सुरक्षा सहायता के रूप में पाकिस्तान को मिलने वाली दो अरब डॉलर की राशि पिछले सप्ताह निलंबित कर दी थी।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कांग ने संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा, ‘‘चीन हमेशा से आतंकवाद को देश विशेष से जोड़ने के खिलाफ रहा है और हम आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई की जिम्मेदारी किसी देश विशेष पर डालने पर भी राजी नहीं है।’’ लु कांग व्हाइट हाउस के एक अधिकारी के बयान पर जवाब दे रहे थे, जिसमें अधिकारी ने कहा था कि चीन पाकिस्तान को यह समझाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है कि आतंकवादियों के सुरक्षित पनाहगाह के खिलाफ कार्रवाई करना उसके अपने हित में है।

संबंधित खबरें

उन्होंने कहा, ‘‘हमने कई बार इस बात पर जोर दिया है कि पाकिस्तान ने वैश्विक आतंकवाद-निरोधी कार्रवाई की दिशा में बहुत बलिदान दिए हैं और महत्वपूर्ण योगदान दिए हैं।’’ कांग ने कहा कि देशों को परस्पर सम्मान और आपसी सहयोग के जरिए आतंकवाद-निरोधी सहयोग को मजबूत करना चाहिए, नाकि एक-दूसरे पर उंगली उठानी चाहिए। यह दुनिया भर में आतंकवाद के खिलाफ चलाए जा रहे मुहिम के लिए सही नहीं है।

उल्लेखनीय है कि कुछ दिनों पहले ही चीन ने यह कहते हुए पाकिस्तान का बचाव किया था कि विश्व समुदाय को आतंकवाद के खिलाफ उसके अभियान में शानदार योगदान को पहचानना चाहिए। इससे एक दिन पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आतंकवादियों को सुरक्षित पनाहगार देने के लिए इस्लामाबाद को लताड़ लगाई थी। पाकिस्तान पर जोरदार प्रहार करते हुए ट्रंप ने उस पर झूठ बोलने और धोखा देने के आरोप लगाए और कहा था कि आतंकवादियों को पनाह देकर वह अमेरिकी नेताओं को मूर्ख बनाता रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *