जिम्बाब्वे: राबर्ट मुगाबे के 37 साल के शासन का अंत, ‘मगरमच्छ’ नाम से फेमस एमर्सन म्नांगाग्वा बने नए राष्ट्रपति – Emmerson Mnangagwa Sworn in As New President of Zimbabwe

जिम्बाब्वे के नए राष्ट्रपति के तौर पर एमर्सन म्नांगाग्वा ने शुक्रवार को लोगों से खचाखच भरे स्टेडियम में शपथ ली। इसी के साथ राबर्ट मुगाबे के 37 साल के शासन का अंत हो गया। शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन राजधानी के नेशनल स्पोर्ट्स स्टेडियम में किया गया। इसमें कई अफ्रीकी देशों के नेताओं सहित गणमान्य लोगों ने भाग लिया। म्नांगाग्वा (75) को मुख्य न्यायाधीश ल्यूक मालाबा ने शपथ दिलाई। म्नांगाग्वा ने जिम्बाब्वे के प्रति निष्ठावान रहने, जिम्बाब्वे के लोगों के अधिकारों की रक्षा करने व बढ़ावा देने और अपने कर्तव्यों का पूरी क्षमता के साथ निर्वहन करने की शपथ ली। उनके साथ उनकी पत्नी ऑक्जीलिया भी थीं।

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, समारोह के बाद विमानों की एक परेड हुई व उन्हें बंदूकों की सलामी दी गई। इसके बाद नए राष्ट्रपति ने संबोधन दिया। मुगाबे ने शपथ ग्रहण समारोह में भाग नहीं लिया और इसके लिए आधिकारिक स्पष्टीकरण में कहा गया कि 93 साल के मुगाबे को आराम की जरूरत है। कई रिपोर्टों में गुरुवार को कहा गया था कि मुगाबे को अभियोग से प्रतिरक्षा प्रदान की गई है। स्थानीय मीडिया ने अपनी रिपोर्टों में कहा कि म्नांगाग्वा ने मुगाबे के परिवार को अधिकतम सुरक्षा व देखभाल की पेशकश की है।

संबंधित खबरें

म्नांगाग्वा को ‘मगरमच्छ’ के नाम से जाना जाता है। दो साल पहले एक रेडियो साक्षात्कार में उन्होंने कहा था कि एक ‘मगरमच्छ’ भोजन की खोज में कभी पानी को नहीं छोड़ता है। इसके बजाय वह धीरज के साथ शिकार के आने का इंतजार करता है। उन्होंने कहा था, “यह उचित समय पर हमला करता है।” इस महीने की शुरुआत में म्नांगाग्वा की मुगाबे द्वारा बर्खास्तगी की वजह से सत्तारूढ़ जानू-पीएफ पार्टी व सेना को दखल देना पड़ा, जिससे मुगाबे को पद छोड़ने को मजबूर होना पड़ा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *