बीबीसी चाइना संपादक कैरी ग्रेसी ने दिया इस्तीफा, वेतन में लैंगिक भेदभाव का लगाया आरोप – BBC China Editor Resigns on Gender Discrimination in Salary Distribution

चीन में बीबीसी की संपादक कैरी ग्रेसी ने संस्थान में पुरुष और महिला कर्मचारियों के बीच वेतन असमानता के विरोध में अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने ब्रिटिश प्रसारणकर्ता में वेतन संबंधी संस्कृति को रहस्यमय और अवैध बताया। एक खुले पत्र में ग्रेसी ने कहा कि जब से यह खुलासा हुआ है कि 1,50,000 पाउंड से अधिक कमाने वाले संस्थान के दो तिहाई दिग्गज पुरुष हैं, बीबीसी भरोसे के संकट का सामना कर रहा है। ग्रेसी ने कहा कि पिछले हफ्ते उन्होंने कॉर्पोरेशन के बीजिंग ब्यूरो के संपादक के रूप में अपनी भूमिका छोड़ दी लेकिन टीवी न्यूजरूम में वह अपने पहले वाले पद पर लौटेंगी जहां उन्हें उम्मीद है कि समान वेतन दिया जाएगा। रविवार को जारी पत्र में उन्होंने बीबीसी पर रहस्यमय तथा अवैध वेतन संस्कृति का आरोप लगाया। वह 30 वर्षों से अधिक समय से बीबीसी के साथ हैं।

बीबीसी ने कहा, ‘‘महिलाओं के खिलाफ भेदभाव व्यवस्था का हिस्सा नहीं है।’’ बीबीसी की प्रवक्ता ने कहा, ‘‘वेतन में निष्पक्षता बेहद आवश्यक है।’’ उन्होंने बताया कि उनके संस्थान में एक स्वतंत्र न्यायाधीश के नेतृत्व में वेतन की लेखा जांच हुई है जिसमें सामने आया है कि महिलाओं के साथ प्रणालीगत कोई भेदभाव नहीं है।’’ इस बीच कई साथी पत्रकारों ने ग्रेसी के प्रति समर्थन जताया है।

संबंधित खबरें

पिछले वर्ष जुलाई में बीबीसी को 1,50,000 प्रति वर्ष कमाई वाले सभी कर्मचारियों के वेतन का खुलासा करने पर मजबूर किया गया था। ग्रेसी ने कहा कि उन्हें यह जानकार निराशा हुई कि बीबीसी के दो अंतरराष्ट्रीय पुरुष संपादक अपनी दो महिला समकक्षों के मुकाबले कम से कम 50 फीसदी अधिक वेतन पाते हैं। बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक ग्रेसी इस सूची में नहीं थी जिसका मतलब है कि उनका वेतन 1,50,000 पाउंड से कम है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *