इस शख्स पर भैय्यूजी महाराज को था पत्नी और बेटी से भी ज्यादा यकीन! 200 करोड़ की प्रॉपर्टी का उत्तराधिकारी बना सेवादार भी शक के घेरे में? – man was more confident than wife and daughter! 200 crore property successor in the circle of suspicion?

संत और आध्यात्मिक गुरु भैय्यूजी महाराज (उदय राव देशमुख) ने मंगलवार (12 जून, 2018) को अपने खंडवा रोड स्थित आवास पर खुद को रिवॉल्वर से गोली मारकर आत्महत्या कर ली। बुधवार को उनका अंतिम संस्कार इंदौर के विजयनगर स्थित शमशान घाट में उनकी बेटी कुहू ने किया। इस दौरान उनकी पत्नी डॉक्टर आयुषी और मां आश्रम में ही रहीं। सुसाइड नोट में भैय्यूजी महाराज ने आत्महत्या का कारण तनाव बताया है। नोट में कथित उन्होंने अपना उत्तराधिकारी सेवादार विनायक को बनाया है। हालांकि इस मामले में फैसला ट्रस्ट लेगा। भैय्यूजी महाराज के श्री सद्गुरु दत्त धार्मिक ट्रस्ट की देशभर में 200 करोड़ रुपए से ज्यादा की संपत्ति है। सेवादार को उनका उत्तराधिकारी बनाया जाता है तो वह सीधे 200 करोड़ रुपए की संपत्ति का मालिक बन जाएगा। जानकारी के मुताबिक भैय्यूजी के अकेले महाराष्ट्र में 20 से ज्यादा केंद्र हैं। इंदौर में उनके दो घर हैं। 10 से ज्यादा लग्जरी गाड़िया हैं।

बड़ी खबरें

वहीं पुलिस ने सुसाइड नोट बरामद करने के साथ उनकी रिवॉल्वर जब्त कर ली है। भैय्यूजी महाराज द्वारा खुद को गोली मार लिए जाने की खबर मिलते ही बड़ी संख्या में उनके समर्थक बॉम्बे हॉस्पिटल के बाहर जुट गए। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित कई नेताओं ने भय्यूजी महाराज के निधन पर शोक जताया। वहीं आत्महत्या मामले की सीबीआई से जांच की मांग की गई है। स्थानीय रिपोर्ट के मुताबिक इंदौर रेंज के एडीजी अजय शर्मा ने मामले में जानकारी देते हुए कहा है कि आत्महत्या के हर पहलू की जांच हो रही है। जांच में परिवार के हर शख्स को शामिल किया गया है।

गौरतलब है कि भैय्यूजी महाराज की आत्महत्या की वजह उनकी दूसरी पत्नी और बेटी के बीच चल रहा विवाद ही अबतक मुख्य रूप से सामने आ पाया है। पुलिस फिर भी हर एंगल से उनकी आत्महत्या की जांच कर रहा है। पुलिस को शक हैं कि भैय्यूजी ने सेवादार को ही क्यों अपना उत्तराधिकारी बनाया है। उनके पत्नी और बेटी से भी रिश्ते अच्छे थे, तो उन्होंने पत्नी या बेटी को अपना उत्तराधिकारी क्यों नहीं बनाया। इसके पीछे क्या वजह है? पुलिस इन सब मामलों की भी बारीकी से जांच कर रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *