डोकलाम: सेना प्रमुख बोले- हालात ठीक, परेशान होने की कोई वजह नहीं – Army Chief Bipin Rawat Says That All is Well at Doklam Border With China

डोकलाम के पास चीन की तरफ से रक्षा बुनियादी ढांचा विकास करने की रिपोर्टों के बीच सेना प्रमुख बिपिन रावत ने बुधवार को कहा कि डोकलाम के हालात ठीक हैं और परेशान होने का कोई कारण नहीं है। नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा ने पिछले साल के डोकलाम गतिरोध पर टिप्पणी करते हुए कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा के पार से चीनी सेना की बार-बार घुसपैठ और डोकलाम घटना चीन की बढ़ती दबंगई का एक संकेत है। चीफ्स आॅफ स्टाफ कमेटी के अध्यक्ष एडमिरल लांबा ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि डोकलाम में तना-तनी सिलीगुड़ी कॉरिडोर की संवेदनशीलता दिखाती है। कार्यक्रम से इतर रावत से पत्रकारों ने डोकलाम के हालात के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा, ‘‘यह बिल्कुल ठीक है। चिंता करने की कोई बात नहीं है।’’

भारत ने विवादित तिराहे में सड़क बनाने से चीनी सेना को रोक दिया था जिसके बाद दोनों देश की सेनाओं के बीच 73 दिन तक गतिरोध बना रहा। डोकलाम पर भूटान और चीन के बीच विवाद है। यह गतिरोध पिछले साल 28 अगस्त को खत्म हो गया। पूर्वोत्तर क्षेत्र में कमियों को खत्म करने और सीमा को सुरक्षित करने पर आयोजित सम्मेलन को संबोधित करते हुए एडमिरल लांबा ने कहा कि चीन के साथ नक्शे पर विवाद के बावजूद वास्तविक नियंत्रण रेखा पर कई दशकों से शांति स्थापित है।

संबंधित खबरें

उन्होंने कहा, ‘‘बहरहाल, पीएलए की तरफ से वास्तविक नियंत्रण रेखा से बार-बार घुसपैठ की घटनाएं और डोकलाम में हाल का गतिरोध चीन की बढ़ती दबंगई का एक संकेत है क्योंकि वह आर्थिक और सैन्य दोनों स्तर पर तेजी से प्रगति कर रहा है। हाल के घटनाक्रम ने सिलीगुड़ी कॉरिडोर की संवेदनशीलता उजागर कर दी है।’’

नौसेना प्रमुख ने कहा कि पूर्वोत्तर में अंतरराष्ट्रीय सीमा का एक बड़ा हिस्सा है और बुनियादी ढांचा, अर्थव्यवस्था एवं संपर्क सुधार कर इस क्षेत्र का समावेश राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था एवं राष्ट्रीय सजगता में किया जाना चाहिए। इस महीने के शुरू में विदेश सचिव विजय गोखले, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल और सेना प्रमुख जनरल रावत खामोशी से भूटान गए जहां उन्होंने सरकार के बड़े अधिकारियों के साथ डोकलाम के हालात समेत सामरिक मुद्दों पर व्यापक चर्चा की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *