शिवसेना सांसद बोले- ना कोर्ट से पूछकर ढहाई थी बाबरी मस्जिद, ना पूछकर बनाएंगे राम मंदिर! – Sanjay Raut Says That We Do Not Need of Court Order for Construction of Ram Temple

शिवसेना सांसद संजय राउत का कहना है कि वे सुनवाई के ऊपर विश्वास नहीं करते हैं। उन्होंने कहा कि ना तो कोर्ट से पूछकर अयोध्या आंदोलन शुरू किया गया था और ना ही बाबरी मस्जिद का विध्वंस कोर्ट से पूछकर हुआ था। उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा, “अयोध्या आंदोलन की शुरुआत करते समय हमने कोर्ट ने पूछा नहीं था कि हम बाबरी मस्जिद का विध्वंस कर रहे हैं और यहां पर मंदिर का निर्माण करेंगे।” उन्होंने सवाल किया कि जब सारे काम कोर्ट से पूछे बिना हुए हैं तो कोर्ट का मामला बीच में कहां से आ गया। राज्य और केन्द्र में भाजपा की सरकार होने का हवाला देते हुए उन्होंने पूछा कि क्या कोर्ट में इस मामले की सुनवाई अगले लोकसभा चुनाव तक चलेगी।

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान की ओर से नियंत्रण रेखा पर लगातार हो रही गोलीबारी को लेकर भी संजय राउत ने हाल ही में भाजपा पर हमला बोला था। एएनआई के अनुसार रावत ने कहा था, “सीजफायर उल्लंघन की बात छोड़ दीजिए। यह सीधा युद्ध है, यह हमला है और उसका जवाब उसके तरीके से देना चाहिए। अगर आप उसका जवाब नहीं देंगे तो इस देश को पूरे विश्व में नामर्द कहा जाएगा। रविवार को पाकिस्तान ने हमारे जवानों पर हमला करने के लिए मिसाइल्स का इस्तेमाल किया। क्या हमारी मिसाइल केवल राजपथ की शोभा बढ़ाने और प्रदर्शनी के लिए रखी हुई हैं। क्या वे केवल 26 जनवरी को विदेशी प्रमुखों को दिखाने के लिए रखी गई हैं।”

संबंधित खबरें

मालूम हो कि पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। गत रविवार को पाकिस्तान ने एक बार फिर से सीजफायर का उल्लंघन किया था जिसमें आर्मी के एक कैप्टन समेत 4 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। पाकिस्तानी रेंजर्स ने रजौरी डिस्ट्रिक्ट के तारकुंडी और भीमबेर गली सेक्टर में सुबह से शाम तक गोलीबारी की थी जिसमें उन्होंने कई बार भारतीय सेना की चौकियों को अपना निशाना बनाया था। पाकिस्तान की तरफ से बार-बार हो रही गोलीबारी को लेकर केंद्र सरकार विपक्ष के निशाने पर बनी हुई है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *