सांसदों के भत्तों में 40 हजार की बढ़ोत्तरी मंजूर , निर्वाचन और ऑफिस भत्ता में बड़ा इजाफा – Central Cabinet approves proposal to hike allowances for loksabha and rajya sabha mp

संसद सदस्यों को अब 40 हजार रुपये बढ़े हुए भत्ते मिलना लगभग तय हो गया है क्योंकि केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार (28 मार्च) को इस संबंध में एक प्रस्ताव को अनुमति दे दी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में कैबिनेट ने भत्ता नियमों में संशोधन को एक अप्रैल से लागू करने को मंजूरी दे दी जिससे आवर्ती और गैर आवर्ती व्यय खर्च का अतिरिक्त बोझ क्रमश: 39 करोड़ रुपये और 6.64 करोड़ रुपये बढ़ जाएगा। सरकार के सूत्रों ने बताया कि सांसदों के निर्वाचन क्षेत्र भत्ते, फर्नीचर भत्ते एवं संपर्क खर्चों में खासा इजाफा होगा। संसदीय मामलों के मंत्री ने बयान जारी कर बताया कि सांसदों को अब निर्वाचन भत्ता प्रति महीने 45 हजार रुपये की बजाए 70 हजार रुपये मिलेगा। इसी तरह से कार्यालय भत्ता को 45 हजार रुपये से बढ़ाकर 60 हजार रुपये कर दिया गया है।

इन दो भत्तों के अलावा एकमुश्त फर्नीचर भत्ते को वर्तमान के 75 हजार रूपये से बढ़ाकर एक लाख रूपये कर दिया गया है। सांसदों के इन भत्तों में हर पांच साल में इजाफा किया जाएगा। सभी भत्ते एक अप्रैल 2023 से लागत वृद्धि के आधार पर हर पांच वर्ष बाद स्वत: बढ़ जाएंगे। वित्त मंत्री अरूण जेटली ने अपने बजट भाषण में घोषणा की थी कि सांसदों के वेतन की प्रत्येक पांच वर्ष के बाद समीक्षा के लिए एक स्थायी प्रणाली बनायी जाएगी। सांसदों को 50 हजार रूपये का मूल वेतन और 54 हजार रूपये का निर्वाचन क्षेत्र भत्ता तथा अन्य भत्ते मिलते हैं। केन्द्र एक सांसद पर प्रति माह करीब 2.7 लाख रूपये व्यय करता है। इस वक्त लोकसभा में अध्यक्ष को छोड़कर 536 सांसद हैं जिनमें दो एंग्लो इंडियन समुदाय के मनोनीत सदस्य हैं। आठ सीटें रिक्त हैं। जबकि राज्यसभा में 239 सदस्य हैं।

बड़ी खबरें

कैबिनेट के इस फैसले को वेतन और भत्तों पर बनी संसद की संयुक्ति समिति के पास भेजा जाएगा। यह कमेटी वर्तमान नियमों में बदलाव करेगी। इसके बाद इस प्रावधान को काउंसिल ऑफ स्टेट्स के चेयरमैन और सदन के स्पीकर अनुमति देंगे। इसके बाद इसका प्रकाशन भारत सरकार के आधिकारिक गजट में किया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *