हिंदी न्यूज़ – government issues notice to whatspp in mob lynching cases

सरकार ने वॉट्सऐप को भेजा दूसरा नोटिस, कहा- फर्जी संदेश रोकने को कदम उठाएं

सांकेतिक तस्‍वीर

भाषा

Updated: July 19, 2018, 11:31 PM IST

सरकार ने वॉट्सऐप को एक और नोटिस भेजकर फर्जी और भ्रामक संदेशों के प्रसार को रोकने के लिए प्रभावी समाधान करने को कहा. सरकार ने कंपनी को चेतावनी दी है कि अफवाहों के प्रसार में माध्यम बनने वाले भी दोषी माने जाएंगे और मूकदर्शक बने रहने पर उन्हें भी कानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा.

सरकार ने देश में फर्जी और भ्रामक संदेश फैलने के कारण आक्रोशित भीड़ द्वारा निर्दोष व्यक्तियों की हत्या समेत हिंसा के कई मामले सामने आने के बाद वॉट्सऐप पर कड़ा रुख अख्तियार किया है. सरकार इससे पहले भी वॉट्सऐप को इस तरह की खबरों एवं संदेशों पर रोक लगाने के लिए चेतावनी दे चुकी है.

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने जारी बयान में कहा, ‘बुरे तत्वों द्वारा जब अफवाहें या फर्जी खबरें फैलायी जाई हैं, इस तरह के दुष्प्रचार में माध्यम बनने वाले जिम्मेदारी और जवाबदेही से नहीं बच सकते हैं. यदि वे मूकदर्शक बने रहते हैं तो उन्हें भी इन संदेशों का वाहक माना जाएगा और फिर उन्हें आगे की कानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा.’

मंत्रालय ने कहा कि उसने बड़ी जवाबदेही और कानून के बेहतर प्रवर्तन के लिए वॉट्सऐप को अधिक प्रभावी समाधान लाने को कहा है. मंत्रालय ने कहा, ‘उन्हें अचूक लहजे में बताया गया है कि यह बेहद गंभीर मसला है और इसके लिए बेहद जिम्मेदार तरीके से कदम उठाने की जरूरत है.’कानून एवं आईटी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने गुरुवार को राज्यसभा को सूचित किया कि वह सोशल मीडिया के दुरुपयोग को रोकने के लिए राजनीतिक दलों समेत विभिन्न हितधारकों से मुलाकात करेंगे.

प्रसाद ने इससे पहले वॉट्सऐप से कहा था कि वह जिम्मेदारी और जवाबदेही से नहीं बच सकती है. इसके बाद वॉट्सऐप ने एक नये फीचर की घोषणा की थी जिसके तहत उपभोक्ता यह पहचान कर सकते हैं कि उन्हें भेजा गया अमुक संदेश भेजने वाले ने भी कहीं से प्राप्त होने पर अग्रसारित (फॉरवार्डेड) किया है. इसके लिये कंपनी ने ‘फारवर्ड लेबल’ की व्यवस्था की है.

सरकार ने कहा है कि केवल अग्रसारित के बारे में जानकारी देना काफी नहीं है कंपनी को ऐसे संदेशों को रोकने के लिये ठोस उपाय करने चाहिए.

और भी देखें

Updated: July 19, 2018 11:12 PM ISTHTP : क्या सोनिया अविश्वास प्रस्ताव के बहाने मोदी सरकार की पोल खोलने में कामयाब होंगी?

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *