हिंदी न्यूज़ – मेहुल चोकसी को क्‍लीन चिट के बाद मुंबई पुलिस ने दिए जांच के आदेश -Mehul Choksi Got ‘Clear Report’ as No Criminal Records Were Found in 2017: Mumbai Police

पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के आरोपी मेहुल चोकसी को पिछले साल पुलिस वेरिफिकेशन में क्लीन चिट देने के मामले में मुंबई पुलिस ने सफाई दी है. पुलिस ने कहा कि 2017 में उन्हें  चोकसी के खिलाफ कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं मिला था इसलिए उसे क्लीन चिट मिल गई थी.

पुलिस ने कहा कि उसने चोकसी को ‘‘पुलिस सत्यापन रिपोर्ट (पीवीआर) जारी होने के मामले में’’ जांच के आदेश दे दिए गए हैं. उसने 2015 में पासपोर्ट प्राप्त किया था.

बता दें कि चोकसी पीएनबी बैंक घोटाला मामले में फरार है. इस मामले में हीरा कारोबारी नीरव मोदी मुख्य आरोपी है, वह भी फरार है.

मुम्बई पुलिस की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि यहां के क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय (आरपीओ) ने उसे 2015 में ‘‘पुलिस सत्यापन जरूरी नहीं’’ का दर्जा प्रदान किया था. इसके बाद 2017 में चोकसी ने ‘तत्काल’ श्रेणी में पासपोर्ट हासिल किया था.विज्ञप्ति में पिछले साल चोकसी को बेदाग रिपोर्ट जारी होने के बारे में स्पष्टीकरण देते हुए कहा गया है कि चोकसी ने 23 फरवरी 2017 को आरपीओ में पुलिस क्लीयरेंस रिपोर्ट (पीसीसी) लिए आवेदन किया था.

विज्ञप्ति के अनुसार मालाबार हिल पुलिस थाने के अधिकारियों ने 10 मार्च 2017 को एक बेदाग रिपोर्ट दी थी और कहा था कि कोई आपराधिक पृष्ठभूमि नहीं पायी गई. उसे आरपीओ मुम्बई को भेज दिया गया.

इसमें कहा गया कि बेदाग रिपोर्ट ऑनलाइन आपराधिक पृष्ठभूमि और सूचना प्रणाली (सीएआईएस)जांच करने के बाद दी गई थी.

विज्ञप्ति में कहा गया है कि यदि कोई व्यक्ति पूर्व में गिरफ्तार हुआ है तो वह सीएआईएस में आ जाता है.

जानकारी के अनुसार, 2017 में चोकसी ने विदेशी में नागरिकता के लिए आवेदन किया था. इसके बाद भारत सरकार से संबंधित देश की सरकार ने चोकसी के बारे में जानकारी मांगी थी. इसके तहत पुलिस को क्रिमिनल ऐन्टिसीडन्ट्स एंड इंफॉर्मेशन सिस्‍टम(सीएआईएस) रिपोर्ट देने को कहा गया था. इसमें मुंबई पुलिस ने 2017 में पासपोर्ट दफ्तर को जानकारी दी थी कि मेहुल के खिलाफ कोई भी क्रिमिनल मामला दर्ज नहीं है. इसी मामले में अब पुलिस ने जांच के आदेश दिए है.

इस घटना के बाद पुलिस ने वेरिफिकेशन प्रक्रिया की जांच के आदेश भी दे दिए हैं जिससे कि प्रक्रिया को सुधारा जा सके.

(इनपुट भाषा से)

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *