हिंदी न्यूज़ – ममता पर कैलाश विजयवर्गीय का हमला, ‘PM बनने के लिए लोगों को बांट रही हैं मुख्यमंत्री’-Mamata Banerjee changed stand on migrants; dividing people to realise PM dream: Kailash Vijayvargiya

बीजेपी के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय ने शनिवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर आरोप लगाया कि अवैध प्रवासियों के मुद्दे पर उन्होंने अपना रुख बदल लिया और लोगों को बांटने के लिए एनआरसी का इस्तेमाल करने की कोशिश कर रही हैं, जिससे कि वह प्रधानमंत्री बनने का अपना सपना पूरा कर सकें.’’

उन्होंने तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) प्रमुख पर एनआरसी को लेकर वोट-बैंक की राजनीति करने का भी आरोप लगाया.

गौरतलब है कि 30 जुलाई को असम में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) का अंतिम मसौदा जारी किया गया था. इस मसौदे में करीब 40 लाख लोगों का नाम नहीं है, जिन्हें अवैध प्रवासी माना जा रहा है. इस मुद्दे पर देश भर में सियासत तेज हो गई है.

बीजेपी महासचिव व पश्चिम बंगाल के प्रभारी विजयवर्गीय ने कोलकाता संवाददाताओं को बताया, ‘‘यह शर्मनाक है कि एक मुख्यमंत्री प्रधानमंत्री बनने के अपने सपने को पूरा करने के लिए लोगों को बांटने की कोशिश कर रही हैं.’’ये भी पढ़ें: अमित शाह की रैली से पहले बंगाल में असम जैसे NRC की जमीन तैयार करने में जुटी BJP

संसद में 2005 की घटना का जिक्र करते हुए विजयवर्गीय ने कहा कि उस समय तृणमूल सांसद रहीं ममता बनर्जी ने बांग्लादेश से आने वाले अवैध प्रवासियों पर अपना रुख बदल लिया.

उन्होंने कहा कि चार अगस्त, 2005 को पश्चिम बंगाल में बांग्लादेशियों के अवैध घुसपैठ के मुद्दे पर बात करने की अनुमति नहीं मिलने पर ममता बनर्जी ने स्पीकर के मंच पर कागज फेंक दिया था और लोकसभा में काफी शोर-गुल मचाया था.

विजयवर्गीय ने कहा, ‘‘हमें आश्चर्य है कि अचानक क्या हुआ कि टीएमसी ने 13 वर्षों के भीतर अपना रुख बदल लिया. टीएमसी को इसका जवाब देना चाहिए. यह सब वोट-बैंक की राजनीति के लिए किया गया है.’’

ये भी पढ़ें: NRC मुद्दाः तृणमूल कांग्रेस ने असम दौरे के लिए बनाया नेताओं का डेलिगेशन

भाजपा नेता ने कहा, ‘‘वह (बनर्जी) एनआरसी के विरोध में समर्थन मांगने के लिए दिल्ली गई थीं, लेकिन किसी भी राजनीतिक दलों ने इस पर उनका समर्थन नहीं किया. केंद्रीय गृह मंत्री ने स्पष्ट किया है कि यह महज एनआरसी का एक मसौदा है, लेकिन वह देश की जनता को बरगलाने की कोशिश कर रही हैं.’

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *