हिंदी न्यूज़ – IAS संघ ने दिल्ली में महिला अधिकारी के साथ मंत्री के ‘दुर्व्यवहार’ की निंदा की-IAS association condemns Delhi minister Kailash Gahlot’s ‘Misbehaviour’ with woman officer

देश में आईएएस अधिकारियों के सर्वोच्च संगठन ने हाल में एक बैठक में दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत के परिवहन सचिव वर्षा जोशी के साथ कथित ‘‘दुर्व्यवहार’’ की ‘‘निंदा’’ करते हुए इसे ‘‘अस्वीकार्य’’ बताया.

वर्षा ने मुद्दे पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. हालांकि उन्होंने विभाग में दक्षता सुनिश्चित करने और भ्रष्टाचार दूर करने के लिए परिवहन विभाग द्वारा की गयी विभिन्न पहलों की ट्विटर पर जानकारी दी. वह विभाग में सचिव सह आयुक्त हैं.

आईएएस (केंद्रीय) संघ ने वर्षा से जुड़ी घटना की तरफ संकेत करते हुए ट्विटर पर लिखा, ‘‘हम अधिकारियों के साथ इस तरह के व्यवहार को स्वीकार नहीं कर सकते. हम इसकी कड़ी निंदा करते हैं.’’ वर्षा ने ट्विटर पर खुद के दलालों को संरक्षण देने के आरोप को लेकर भी जवाब दिए.

ये भी पढ़ें: दिल्ली के परिवहन मंत्री ने आईएएस अधिकारी को लगाई फटकारउन्होंने अपना पद संभालने के साथ अप्रैल 2017 के बाद से भ्रष्टाचार पर रोक लगाने के लिए किए गए उपायों की जानकारी मुहैया कराने का वादा करते हुए लिखा, ‘‘किसी परिवहन आयुक्त के दलालों को संरक्षण देने का विचार बेहद हास्यास्पद है.’’

गहलोत ने शुक्रवार को हुई बैठक में कथित रूप से वर्षा के साथ दुर्व्यवहार किया. बैठक विधानसभा के मानसून सत्र में किए जाने वाले सवालों को लेकर परिवहन विभाग के जवाबों की समीक्षा करने के लिए बुलायी गयी थी.

विवाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के पिछले महीने बुराड़ी परिवहन प्राधिकरण के दौरे से जुड़ा है. इस दौरान केजरीवाल को कथित भ्रष्टाचार की शिकायतें मिली थीं. इसी बीच आप ने रविवार को कहा कि गहलोत ने वर्षा द्वारा तैयार किए इस जवाब को मंजूरी देने से मना कर दिया था कि केजरीवाल के दौरे के समय बुराड़ी परिवहन प्राधिकरण में ‘‘कोई भ्रष्टाचार या गड़बड़ियां नहीं पाई गईं.’’

आप के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा, ‘‘जिस किसी के भी पास ऑटोरिक्शा, टैक्सी, टैंपो, बस जैसा कोई व्यवसायिक वाहन है, उसे अच्छी तरह से पता होगा कि बुराड़ी परिवहन प्राधिकरण भ्रष्टाचार का अड्डा है. हर वाहन मालिक को हर साल फिटनेस का प्रमाणपत्र हासिल करना होता है और ऐसा एजेंट एवं दलालों के बिना नहीं हो सकता.’’

उन्होंने कहा, ‘‘अगर दलाल परिवहन प्राधिकरण (कार्यालय) के पास खुले में घूम रहे हैं और केवल वही पैसे लेने के बाद काम करा सकते हैं तो साफ है कि कोई साठगांठ है. दलाल परिवहन विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत के बिना कैसे काम पूरा करा सकते हैं?’’



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *