हिंदी न्यूज़ – राजीव गांधी के हत्यारों को वक्त से पहले रिहा करने की तमिलनाडु सरकार की याचिका को केंद्र ने किया खारिज-Centre rejects plea of tamilnadu government for premature release of rajiv gandhi assasins

राजीव गांधी के हत्यारों को वक्त से पहले रिहा करने वाली याचिका केंद्र सरकार ने की खारिज

24 मई 1991 को राजीव गांधी की शवयात्रा के पीछे चलती भीड़

News18.com

Updated: August 10, 2018, 1:13 PM IST

केंद्र सरकार ने राजीव गांधी के हत्यारों को सजा की अवधि पूरी होने से पहले रिहा करने वाली तमिलनाडु सरकार की याचिका को खारिज कर दिया है. सरकार का तर्क था कि 1991 में राजीव गांधी की हत्या की वजह से पूरी लोकतांत्रिक प्रक्रिया पर रुक गई थी.

एडिशनल सॉलिसिटर जनरल पिंकी आनंद ने जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच को बताया कि तमिलनाडु सरकार की निवेदन पर सरकार ने प्रतिक्रिया देते हुए ऐसा कहा है.

ये भी पढ़ेंः राजीव गांधी हत्याकांड: दोषी की मां ने मांगी अपने बेटे के लिए दया मृत्यु

कोर्ट ने कहा कि सरकार के जवाब को रिकॉर्ड में शामिल कर लिया गया है और अब मामले की सुनवाई की जाएगी. इस साल जनवरी में कोर्ट ने केंद्र सरकार को तीन महीने का समय दिया था ताकि वो तमिलनाडु सरकार द्वारा भेजे गए पत्र पर फैसला ले सकें. 18 अप्रैल को केंद्र सरकार ने राज्य सरकार के निवेदन को ठुकरा दिया था.तीन पेज के लिखे गए पत्र में गृह मंत्रालय ने कहा कि यह काफी घृणित अपराध था जिसकी वजह से उस वक्त लोकसभा और कुछ राज्यों में होने वाले चुनावों को टालना पड़ा.

ये भी पढ़ेंः राजीव गांधी हत्या: क्या हुआ था धमाके की उस रात 9.15 बजे से 10.20 बजे तक?

उस वक्त कोर्ट ने भी कहा था कि यह बहुत घृणित अपराध है. गृह मंत्रालय ने कहा कि अपराधियों को समय पूर्व रिहा किए जाने की वजह से एक गलत संदेश जाएगा और इस तरह के अपराध को बढ़ावा मिलेगा. इसलिए केंद्र सरकार अपराधियों को रिहा किए जाने की राय से सहमत नहीं है. बता दें कि सातों अपराधी इस वक्त उम्र कैद की सज़ा भुगत रहे हैं.

और भी देखें

Updated: August 09, 2018 11:40 PM ISTHTP : क्या राज्यसभा उपसभापति चुनाव ने फिर साबित किया है कि मोदी नीति से राहुल पार नहीं पा सकते?

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *