हिंदी न्यूज़ – क्या अमित शाह के पास नागरिकता साबित करने के लिए अपने पिता का जन्म प्रमाण पत्र है: ममता-Does Amit Shah Have His Father’s Birth Certificate to Prove Citizenship: Mamata Banerjee

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को असम सरकार पर आरोप लगाया कि राष्ट्रीय पंजीकरण रजिस्टर (एनआरसी) के मसौदे से बाहर रखे गए लोगों को नकली मामलों में फंसाया जा रहा है.

कोलकाता में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ममता ने कहा, “उन्हें (एनआरसी से बाहर लोग) असम सरकार द्वारा परेशान किया जा रहा है और कई लोग पहले से ही हिरासत कैम्प में हैं. मैं पूछना चाहूंगी कि अगर एनआरसी की प्रक्रिया शांतिपूर्ण है तो फिर असम में सुरक्षा बलों की 400 कंपनियां क्यों तैनात की जा रही हैं. एनआरसी को न्यायसंगत ठहराने के लिए बीजेपी नेता अपनी पीठ थपथपा रहे हैं.”

बनर्जी ने कहा, “एनआरसी नागरिकता का मुद्दा है और लोगों को उनकी भाषा के आधार पर इससे बाहर कर दिया गया. एनआरसी सूची में शामिल नहीं किए गए 40 लाख लोगों में से 38 लाख बंगाली भाषी हिंदू और मुस्लिम लोग हैं. उनका अपराध क्या है? उनका अपराध यह है कि वे बांग्ला बोलते हैं. बीजेपी वोट बैंक की राजनीति के लिए ऐसा कर रही है.”

ये भी पढ़ें: भाजपा पर ‘बंगाली विरोधी’ होने का आरोप लगाते हुए ममता ने पूछा- क्या हिलसा भी ‘घुसपैठिया’ ?बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा, “मैं अमित शाह से पूछना चाहूंगी कि क्या उनके पास अपने माता-पिता की नागरिकता साबित करने के लिए दस्तावेज हैं. पहले बहुत कम लोगों के पास ये दस्तावेज होते थे. कल को अगर महात्मा गांधी के परिवार के लोग अपनी नागरिकता दस्तावेज दिखाने में कामयाब नहीं हुए तो क्या हम ये कहेंगे कि वे भारतीय नहीं थे? बीजेपी अपने राजनीतिक हित के लिए लोगों को विभाजित कर रही है.”

सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा, “यहां तक कि गायों को भी अपना जन्म प्रमाण पत्र बनाना पड़ेगा, अन्यथा एक दिन उन्हें भी देश छोड़ना पड़ेगा.”

ममता बनर्जी ने बीजेपी अध्यक्ष पर यह हमला 11 अगस्त को कोलकाता के मेयो रोड में उनकी विशाल रैली के बाद किया है, जिसमें अमित शाह ने साफ कर दिया कि 2019 में बीजेपी बंगाल में एनआरसी और अवैध घुसपैठ को मुद्दा बनाएगी.

रैली के दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए बीजेपी अध्यक्ष ने कहा था, “मैं ममता जी से पूछना चाहूंगा कि वह बांग्लादेशी घुसपैठियों की रक्षा क्यों कर रही हैं. हम एनआरसी योजना के साथ आगे बढ़ेंगे और प्रत्येक घुसपैठिए को वापस धकेल देंगे.”

ममता ने प्रधानमंत्री मोदी द्वारा प्रस्वाति ‘वन नेशन वन इलेक्शन’ का भी जोरदार विरोध किया और इसे अव्यवहारिक करार दिया. उन्होंने सवाल किया कि अगर कल को केंद्र सरकार गिर जाती है तो फिर राज्य और केंद्र फिर से चुनाव के लिए कैसे जाएंगे? ममता ने कहा कि यह स्थानीय चुनावों पर लागू हो सकता है.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *