हिंदी न्यूज़ – केरल: बाढ़ से 324 लोगों की मौत, 3 लाख बेघर, मोदी लेंगे स्थिति का जायजा-Kerala:324 Death by Flood, 3 Lakh in Relief Camp, Modi will Stock of Situation

केरल में भारी बारिश, बाढ़ एवं भूस्खलन की वजह से जन-जीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त हो चुका है. राज्य में भारी बारिश एवं बाढ़ की वजह से 324 लोगों की मौत हो चुकी है. साल 1924 के बाद से यह सबसे खतरनाक बाढ़ है. बाढ़ की वजह से करीब 2 करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं जिनमें से लगभग 3 लाख लोगों ने राहत शिवरों में शरण ली है.

एनडीआरएफ सहित तटरक्षक बल एवं तीनों सेना की टुकडियां राहत एवं बचाव कार्य में जुटी हुई है. केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने शुक्रवार को बताया कि राज्य में 29 मई से लेकर शुक्रवार तक 324 मौतें हुई. उन्होंने बताया कि शुक्रवार को 88,442 लोगों को बचाया गया और 3,14,491 राहत शिविरों में हैं. मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे राज्य में 2094 राहत शिवर स्थापित किए गए हैं जहां लोगों को भोजन एवं पानी दिया जा रहा है.

मुख्यमंत्री कार्यालय ने एक बयान में कहा, ‘‘राष्ट्रीय आपदा मोचन बल, दमकल विभाग, त्वरित प्रतिक्रिया बल एवं अन्य के साथ सेना भी अब बचाव अभियान में जुट गई है.’’ इसके के अनुसार मुख्य सचिव विजय भास्कर ने कर्नाटक मुख्यमंत्री कुमारस्वामी को बाढ़ एवं भूस्खलन से प्रभावित तटीय जिलों एवं मलनाड क्षेत्रों में बचाव अभियानों के बारे में अवगत कराया.

बयान के अनुसार मुख्यमंत्री लगातार उन जिला प्रभारियों के संपर्क में हैं जो संबंधित जिलों में बचाव अभियानों की निगरानी कर रहे हैं. प्रभारी सचिव बचाव अभियानों का प्रबंधन कर रहे हैं.ये भी पढ़ें: केरल में बाढ़ की विभीषिका के बीच लिया जिंदगी ने जन्‍म

पीएम मोदी लेंगे स्थिति का जायजा

केरल में बाढ़ की स्थिति का जायजा लेने के लिए प्रधानमंत्री मोदी केरल पहुंच चुके हैं. शनिवार सुबह वह बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे. इसके बाद वह मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ अधिकारियो के साथ एक मीटिंग करेंगे. शुक्रवार सुबह मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन से फोन पर बात करने के बाद मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘हमने समूचे राज्य में बाढ़ की स्थिति पर चर्चा और राहत अभियानों की समीक्षा की. आज शाम मैं केरल के लिये रवाना होऊंगा और बाढ़ की विभीषिका का जायजा लूंगा.’’  प्रधानमंत्री पिछले दो दिनों से मुख्यमंत्री के लगातार संपर्क में हैं. प्रधानमंत्री ने केरल जाने की जानकारी खुद ट्वीट करके दी.

दूसरे राज्यों ने बढ़ाए मदद के हाथ

गुरुवार को कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी केरल में राहत कार्य के लिए प्रभावित जिलों को 200 करोड़ रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की थी. शुक्रवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केरल की सहायता के लिए 10 करोड़ रुपये बाढ़ राहत फंड में देने की घोषणा की. तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसी राव ने केरल को 25 करोड़ रुपये की मदद देने का ऐलान किया है. इसके साथ आईसीआईसीआई बैंक ने बाढ़ प्रभावित राज्य की सहायता के लिए 10 करोड़ रुपये देने की घोषणा की.

ये भी पढ़ें: दिल्‍ली सरकार ने केरल की मदद के लिए 10 करोड़ की सहायता राशि दी

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने भेजा भोजन

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने केरल के बाढ़ प्रभावित बच्चों के लिए 100 मीट्रिक टन पैकेटबंद भोजन की व्यवस्था की है और शनिवार से इसका वितरण शुरू हो जाएगा. मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि शनिवार सुबह हैदराबाद से हवाई मार्ग के जरिये पैकेटबंद भोजन केरल के प्रभावित इलाकों में पहुंचाया जाएगा और वितरित किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि एक-एक किलोग्राम के पैकेट में ‘रेडी टू ईट’ भोजन पैक किए गए हैं.

इससे पहले महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘मैं आहत हूं कि केरल में बाढ़ की वजह से लोग किस तरह जीवन के लिए संघर्ष कर रहे हैं. मैंने बाढ़ से प्रभावित बच्चों के लिए 100 मीट्रिक टन पैकेट बंद भोजन का प्रबंध किया है.’

उन्होंने कहा, ‘मेरे मंत्रालय के अधिकारी तेलंगाना व केरल सरकार और भारतीय वायुसेना के संपर्क में हैं, ताकि बाढ़ से प्रभावित लोगों तक भोजन शीघ्र अति शीघ्र पहुंचाया जा सके.’

मंत्री ने कहा, ‘मैंने केरल सरकार को आश्वस्त किया है कि आवश्यकता पड़ने पर भोजन के पैकेट दोबारा भेजे जाएंगे. मैं बाढ़ से प्रभावित लोगों की सुरक्षा की ईश्वर से प्रार्थना करती हूं.”

ये भी पढ़ें: केरल में 96 साल बाद बाढ़ का कहर, जानिए क्यों हुई ऐसी तबाही

कोच्चि की उड़ानों का परिचालन तिरूवनंतपुरम और कोझिकोड से करेगी एयर इंडिया

राष्ट्रीय विमानन कंपनी एयर इंडिया तथा सस्ती दर पर सेवा देने वाली उसकी इकाई एयर इंडिया एक्सप्रेस ने शुक्रवार को कहा कि उसकी कोच्चि हवाईअड्डे से होने वाली उड़ानें तिरूवनंतपुरम और कोझिकोड से उड़ान भरेंगी. भारी वर्षा और बाढ़ के कारण कोच्चि हवाईअड्डा 26 अगस्त तक बंद है.

एयर इंडिया ने कहा कि तिरूवनंतपरुम से 18 से 20 अगस्त के लिए नई समयसारणी होगी. एयर इंडिया एक्सप्रेस ने कहा कि नई समयसारणी 26 अगस्त तक प्रभावी होंगी और उड़ानें तिरूवनंपतरुम और कोझिकोड से चलेंगी.

एक विज्ञप्ति के अनुसार जिन उड़ानों की समयसारणी फिर से निर्धारित की गई है उसमें दुबई के लिए एआई 933, दिल्ली के लिए एआई 047, मुंबई के लिए एआई 682, नई दिल्ली के लिए एआई 511 तथा चेन्नई के लिए एयर इंडिया 510 शामिल हैं. कोच्चि से एयर इंडिया एक्सप्रेस पश्चिम एशिया की दैनिक सात उड़ानों का परिचालन करती है. इनमें से मस्कट, सलाला, अबू धाबी, दुबई और दोहा का परिचालन तिरूवनंतपुरम और शारजाह तथा बहरीन के लिये काझिकोड से उड़ानें रवाना होंगी.

एयर इंडिया एक्सप्रेस ने टिकट रद्द कराने पर किसी प्रकार का शुल्क नहीं लेने की घोषणा की है और पूरा पैसा वापस किया जाएगा. यह केरल के सभी हवाईअड्डों से उड़ान भरने वाले विमानों पर 26 अगस्त तक लागू रहेगा.

अस्त-व्यस्त हुआ जीवन

राज्य में कुछ स्थानों पर बारिश थोड़ी थमी है लेकिन पथनमथिट्टा, अलपुझा, एर्नाकुलम और त्रिशूर जिले अब भी मानसूनी संकट से जूझ रहे हैं.

अधिकारियों ने बताया कि एर्नाकुलम जिले में कई निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी हो गयी है जिसके चलते अधिकारियों ने मरीजों को दूसरे अस्पतालों में भर्ती कराया. अस्पतालों में पानी घुस जाने के कारण कई मरीजों को वहां से निकाला गया.

राहत शिविरों में रह रहे लोगों ने भी बाढ़ के खतरे और पेयजल की कमी की शिकायत की. राज्य की राजधानी तिरुवनंतपुरम जैसे स्थानों में कुछ पेट्रोल पंपों में ईंधन की कमी दिखी.

तिरुवनंतपुरम जिले में कई पेट्रोल पंपों में मोटरचालकों की लंबी-लंबी कतारें दिखीं. अधिकारियों ने पेट्रोल पंपों को निर्देश दिया है कि वे राहत अभियानों के लिए अपने पास हर वक्त 3000 लीटर डीजल और 1000 लीटर पेट्रोल अपने पास बचाकर रखें.

अलुवा, कालाडी, पेरुम्बवूर, मुवाट्टुपुझा एवं चालाकुडी में फंसे लोगों को निकालने के कार्य में मदद के इरादे से स्थानीय मछुआरे भी अपनी-अपनी नौकाएं लेकर बचाव अभियान में शामिल हुए हैं.

सूत्रों ने बताया कि कई ट्रेनों को या तो रद्द कर दिया गया है और उनके समय में परिवर्तन किया गया है. बहरहाल अब तक कोच्चि मेट्रो की सेवाएं बाधित नहीं हुई हैं.

मौसम विभाग ने राज्य के विभिन्न हिस्सों में भारी बारिश एवं तेज हवाएं चलने का पूर्वानुमान जताया है. रिपोर्ट के अनुसार पथनमथिट्टा, तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, अलपुझा, कोट्टायम, इडुक्की, एर्नाकुलम, त्रिशूर, पलक्कड़, मलप्पुरम, कोझिकोड और वायनाड जिलों में 60 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की संभावना है.

(एजेंसी इनपुट के साथ)

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *