हिंदी न्यूज़ – uk confirms nirav modi presence-ब्रिटेन ने नीरव मोदी के अपने यहां होने की पुष्टि की, सीबीआई ने भेजा प्रत्यर्पण अनुरोध

ब्रिटेन ने की पुष्टि- उनके देश में है नीरव मोदी; सीबीआई ने की प्रत्यर्पण की मांग

नीरव मोदी (फाइल फोटो)

News18Hindi

Updated: August 20, 2018, 2:06 PM IST

ब्रिटेन के अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की है कि भगोड़ा अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी उनके देश में है, जिसके बाद सीबीआई ने ब्रिटेन को प्रत्यर्पण अनुरोध भेजा है. अधिकारियों ने सोमवार को कहा कि एजेंसी ने उचित चैनलों के माध्यम से अनुरोध भेजा है. इसे गृह मंत्रालय को भेजा गया है जो विदेश मंत्रालय के माध्यम से इसे ब्रिटेन भेजेगा.

उन्होंने कहा कि सीबीआई ने ब्रिटेन के अधिकारियों से उसे हिरासत में भी लेने का अनुरोध किया है. पंजाब नेशनल बैंक घोटाले में इंटरपोल ने नीरव मोदी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था. सीबीआई ने घोटाले में नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी के खिलाफ हाल ही में अलग अलग आरोपपत्र दाखिल किए थे.

यह भी पढ़ें: नीरव मोदी के अवैध बंगले पर कार्रवाई न होने से नाराज़ बॉम्बे हाईकोर्ट

इससे पहले विशेष ‘भगोड़ा आर्थिक अपराध कानून’ अदालत ने दो अरब अमेरिकी डॉलर के बैंक घोटाले के मुख्य आरोपी भगोड़ा हीरा व्यापारी नीरव मोदी की बहन और भाई को शनिवार को सार्वजनिक समन जारी कर उन्हें 25 सितंबर को पेश होने को कहा है. इसमें कहा गया है कि अगर वे अदालत के समक्ष पेश नहीं हुए तो उनकी संपत्ति नए कानून के तहत जब्त कर ली जाएगी.एमएस आजमी की अदालत ने प्रमुख समाचार पत्रों में नीरव मोदी की बहन पूर्वी मोदी और भाई निशाल मोदी के नाम तीन सार्वजनिक नोटिस जारी किए थे  क्योंकि प्रवर्तन निदेशालय ने नए कानून के तहत एक आवेदन में इन्हें ‘हितबद्ध व्यक्तियों’ में गिना है.

ईडी ने दोनों पर मनी लॉन्ड्रिंग में लिप्त होने और घोटाले के सामने आने से पहले ही भारत से फरार हो जाने के आरोप लगाए हैं. पूर्वी और निशाल के खिलाफ नोटिस में उनसे यह बताने के लिए कहा गया है कि क्यों न आवेदन में वर्णित संपत्तियों (ईडी की ओर से पूर्व में दर्ज) को उपरोक्त अध्यादेश के तहत जब्त किया जाए.’

(एजेंसी इनपुट के साथ)

यह भी पढ़ें:नीरव मोदी और उसके परिवार पर नया भगोड़ा कानून कसेगा शिकंजा

और भी देखें

Updated: August 20, 2018 09:28 AM ISTVIDEO- GDP आंकड़ों पर जेटली का पलटवार, UPA की नीतियों से अर्थव्यवस्था चौपट

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *